लकड़हारे की प्रेरक हिंदी कहानी | Hindi Kahani for Kids

लकड़हारा और व्यापारी की हिंदी कहानी

Jindgi Badlne wali Hindi Kahani

एक गाँव में एक गरीब लड़का रहता था जिसका नाम मोहन था । मोहन बहुत मेहनती था लेकिन थोड़ा कम पढ़ा लिखा होने की वजह से उसे नौकरी नहीं मिल पा रही थी । ऐसे ही एक दिन भटकता भटकता एक लकड़ी के व्यापारी के पास पहुँचा । उस व्यापारी ने लड़के की दशा देखकर उसे जंगल से पेड़ कटाने का काम दिया ।

मोहन अब एक लकड़हारा बन गया था| नयी नौकरी से मोहन बहुत उत्साहित था , वह जंगल गया और पहले ही दिन 18 पेड़ काट डाले। व्यापारी ने भी मोहन को शाबाशी दी , शाबाशी सुनकर मोहन और गदगद हो गया और अगले दिन और ज्यादा मेहनत से काम किया । लेकिन ये क्या ? वह केवल 15 पेड़ ही काट पाया । व्यापारी ने कहा – कोई बात नहीं मेहनत करते रहो ।

तीसरे दिन उसने और ज्यादा जोर लगाया लेकिन केवल 10 पेड़ ही ला सका । अब मोहन बड़ा दुखी हुआ लेकिन वह खुद नहीं समझ पा रहा था क्युकी वह रोज पहले से ज्यादा काम करता लेकिन पेड़ कम काट पाता । हारकर उसने व्यापारी से ही पूछा – मैं सारे दिन मेहनत से काम करता हूँ लेकिन फिर भी क्यों पेड़ों की संख्या कम होती जा रही है । व्यापारी ने पूछा – तुमने अपनी कुल्हाड़ी को धार कब लगायी थी । मोहन बोला – धार ? मेरे पास तो धार लगाने का समय ही नहीं बचता मैं तो सारे दिन पेड़ कटाने में व्यस्त रहता हूँ । व्यापारी – बस इसीलिए तुम्हारी पेड़ों की संख्या दिन प्रतिदिन घटती जा रही है ।

मित्रों यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है , हम रोज सुबह नौकरी पेशा करने जाते हैं , खूब काम करते हैं पर हम अपनी कुल्हाड़ी रूपी Skills को Improve नहीं करते हैं । हम जिंदगी जीने में इतने ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं कि अपने शरीर को भी कुल्हाड़ी की तरह धार नहीं दे पाते और फलस्वरूप हम दुखी रहते हैं ।

मित्रों कठिन परिश्रम करना कोई बुरी बात नहीं है पर Smart Work , Hard Work से ज्यादा अच्छा होता है, यही इस हिंदी कहानी की सीख है|

ये कहानियां पढ़ीं क्या ?? –
साधू का नाच
हथिनी व बिल्ली की कहानी
परिवर्तन
भिखारी की कहानी

गन्दी शुरुआत – Hindi Ki Kahani

हरिया एक गांव में ही खेती करता था। खेती के लिए जमीन तो बहुत ज्यादा नहीं थी लेकिन हरिया के छोटे से परिवार के पालन पोषण के लिए काफी थी। हरिया सुबह बैल लेकर खेत की ओर निकलता फिर शाम को ही वापस आता था।

एक दिन हरिया का बैल बीमार पड़ गया। 2 बैलों की जोड़ी में अब केवल एक ही बैल बचा था, दूसरे बैल को तेज बुखार था। हरिया अपने बैल की दशा देखकर बड़ा दुखी हुआ। इस बैल ने दिन रात खेत में मेहनत करके परिवार को पाला है तो उसे बीमार देख दुःख होना तो लाजमी था।

हरिया के पास इतने पैसे भी नहीं थे कि बैल को किसी पशु चिकित्सालय में ले जाकर उपचार करा पता। उदासी में डूबा हुआ हरिया सुबह खेतों पर जा रहा था कि अचानक उसे मुखिया जी के घर की खिड़की खुली दिखायी दी।

हरिया ने पास जाकर देखा तो खिड़की के पास ही एक सोने की घडी रखी दिखायी दी। वो घडी इतनी पास थी कि हरिया उसे आसानी से उठा सकता था लेकिन हरिया की आत्मा ने अंदर से मना किया कि चोरी करना पाप है।

हरिया अभी 2 कदम आगे ही बड़ा था कि फिर से उसे बीमार बैल का ख्याल आया उसने सोचा कि चलो आज चोरी कर लेता हूँ लेकिन आज के बाद कसम खाता हूँ कभी चोरी नहीं करूँगा। बस हरिया ने ये सोच कर वो घडी उठा ली और बाजार में ले जाकर बेच दी।

उस दिन तो हरिया का काम बन गया लेकिन अब जब भी कभी उसके सामने कोई समस्या आती वो चोरी करने का सोचने लगता। जब पैसों की जरुरत होती तो उसका मन करता कि किसी के घर चोरी कर लूँ। एक बार चोरी क्या की, हरिया के मन की दशा ही बदल गयी।

अब हरिया ने खेत में भी मेहनत करना कम कर दिया। जब कभी पैसों की जरुरत होती हरिया छोटी मोटी चोरी कर लेता लेकिन कब तक बच पाता। एक दिन हरिया एक सेठ के घर चोरी करता हुआ पकड़ा गया और उसे जेल में डाल दिया गया साथ ही इतना जुर्माना लगाया कि उसका घर खेत सब बिक गया।

अब हरिया उस दिन को कोस रहा था जब उसने पहली बार चोरी की थी। ना वो उस दिन चोरी करता और ना ही ये चोरी उसकी आदत बनती लेकिन अब क्या हो सकता था जब चिड़िया चुग गयी खेत।

दोस्तों जरा गौर से सोचो तो हमें भी ऐसी ही गन्दी आदतें पड़ चुकी हैं। हमने एक बार अपने फायदे के लिए झूठ बोला लेकिन आगे चलकर ये झूठ बोलना हमारी आदत बन जाता है। कई बार हम बहाने बना कर काम से बच जाते हैं लेकिन ये बहाने बनाना आगे चलकर हमारी आदत बन जाता है।

सच बात तो ये है कि आप जिस काम को नहीं चाहते उसकी कभी शुरुआत ही मत करिये क्योंकि अगर आपने एक बार किसी गन्दी आदत की शुरुआत कर दी फिर आप उसे बार बार करेंगे और इस तरह आपका पूरा जीवन गन्दी आदतों से घिर जायेगा।

=> आप गुस्सा करना नहीं चाहते तो कभी उसकी शुरुआत ही ना करें,
=> आप झूठ बोलना नहीं चाहते तो कभी उसकी शुरुआत ही ना करें
=> जिस काम को नहीं चाहते उसकी शुरुआत ही ना करें ,,,,नहीं तो एक दिन आपको भी पछताना जरूर पड़ेगा।

ये कहानियां पढ़ीं क्या ?? –
मेंढक की कहानी
कहानी जो दिल को छू ले
कर्नल सैंडर्स की दिल पिघला देने वाली कहानी
जीत आपकी – सोच आपकी
भगवान उन्हीं लोगों की मदद करते हैं जो स्वयं की मदद करते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

55 Comments

  1. Your blog is awesome. Thank you so much for giving plenty of useful content. I will bookmark your blog siteand will be without doubt coming back. Once again, I appreciate all your work and also providing a lot vital tips for your readers.

  2. hello sir aaj raat ki 1:01 Am ho reha he me raat bhar yahi sochta hu ki me kar sakta hu , or me kosish bhi karta hu , uske baad bhi apne aap ko improve hote nhi dhek paa reha hu , muje esaa lagta he ki muj me aaj bhi kami he , or dusre log muje bolte he ki me kuch alag sochta hu , but muje samaj nhi aata ki me dusre se esaa kiya alag sochta hu , sir muje bhut achaaa insaan or jo me chaata hu wo pura ho jaaye busss uske baad meri life dhany ho jaayegi , yadi esaa kuch hota he to me apne life ke last stage me roungaa nhi na muje iss duniyaa se jaane ka dhuk hoga balki ek khusi milegi ki jo meri ichaa thi wo puri ho gai , sir meri age 25 He or meri b.e. Ho chuki he but meri ruchi engineering field me nhi he muje marketing se bhut piyar he but jab jab mene marketing ki job karta hu humesaa aasfal ho jaataa hu , muje esaa lagta he ki jo marketing ideas mere dimaak me aate he wo sayad koi sochta ho , sir muje aapse muje yahi puchnaa he ki mujee esaa kiya karna chaaiye jisse me is field me kuch alag kar saku , muje asaa he ,ki meri koi to hoga jo meri life ke turning point pr madad karegaaa , thanks for all friend sukriyaaa aaap sabhi ka

    1. Hii, Anand, first thanks for visiting hindisoch.
      Aap sabse phle ye dekhiye apka real interest kis field me hai kyunki log bina interest wale field me jab job karte hain to aksar asafal ho jate hain ya ek limit tak hi aage bad pate hain. Jis field me apka interest hoga aap khud hi usme aage badne lagenge.

      Thanks

    2. Hello dost
      You can watch last life changing seminar of sandeep maheshwari
      Jub app free honge tabbi dekhna
      Promise, it will help you 100%

    3. Bhai anand mai direct marketing ka business karta hu…mai chata hu ki tum apna expirence ek is industry me azmao..c.no-8512927388

    4. Hello mere sabase pyare dost.
      Aapke liye Best offer hai
      Jo international business hai. .
      plz Argentali call me
      MO 8404837414
      By-g2

  3. Yes sir pahle m v yahi sochta tha
    M v ek sath bahut saare kaam karne ki sochta tha lekin jb maine marketing join ki to pta chala ki koi bhi aadmi jab tak ek kaam m safal nahi ho jata use dusre kaam ke baare m nahi sochna chahiye

  4. sir muje yk safal busisnesmen bna hai parntu may bhut bar asafal rha hu muje safal hone ka kuch rasta btaiye sir

  5. mere ko b kuch kahna h..
    yadav sir I m not much intelligent nor I have any degree..
    par ek chij ko feel kiya h kaam koi b suruaat me boring lgta h jis din aap intrest k sath koi b kaam karoge aap us chij me successful ban jaoge
    haa agr aapke paas accha family back ground h or support h to aap try kar sakte ho dusre field me pr agr aap pure man se khushi se b.e. me apna time doge to surely u’ll be success..

    I just wanna to say sir there are many more students jo kisi karan se padayi puri nhi kr pate hain apne apnu life k 4 year waha diye hain to minimum 2 year waha dil se kaam b kr lo
    becoz isse aapko ye b pata chal jaega ki aap engineer bn sakte hain ya nahi or uske baad aap marketing me try kar sakte hain puri life h pr agr aaj aap marketing me chale jate hain or successful nhi ho paye to kal aapko pachtana padega…

  6. wese meko bolne ka koi rights nhi hain bss khud ko aapki jageh pr rakh k bol diya ki me krta agr me aapki jageh hota to

  7. Hey bro,
    Dont worry life is full of oppurtunity.Anand if u want Please Contact with me on 9689666463 will defently help u in ur intersting fieled.

  8. AGAR AAP BEROJGAR HAI.OR AAP FACEBOOK OR WTSUP INTERNET ACHE SE CHALATE HAI..TO AAP ONLINE KAM KARNE PAISA KAMA SAKTE HAI…
    CONTECT WTSUP 7570045765

  9. मेरा विचार :- sahi hain. safalta jaruri hain par us raste ka gyan hona bhi bahut jaruri jis raste se hokar aap safalta ko hasil karne jaa rahe hain isliye safal hona hain to us raste ke bare me bhi jankari rakhna chahiye.

  10. Mai yo yahi.kahoonga
    Ki wo jo chinti hoti hai
    Girti hai fir chadti hai
    Akhir kar wo chad hei jati hai.
    Bas kosis karte raho
    kahte raho
    Asan hai bas
    Asan aai
    Kyonki risk na munkin nam ki koi chij hai hri nahi.is dunia mai

  11. आइये digital india से जुड़िये….. और घर बैठे लाखो कमाये……. और दूसरे को भी कमाने का मौका दीजिए… कोई इनवेस्टमेन्ट नहीं है…… आईये बेरोजगारी को भारत से उखाड़ फेकने मे हमारी मदद कीजिये… .? .? .? .? JOIN लिखकर इस WhatsApp no. 07837576705 पर send कीजिये…… ? Join in this job and Chang your life.

  12. Real , untold and heart touching hindi love story read karne aur khud ki story share karne ke liye…..

    Hindilovestories.com ko visit kare.

  13. 2nd kahani padhane se hame yah shiksha mili ki kam ke prti sehat par khayl rakhana chahiye or kam karne ki bastuo par
    pura khyal rakhana chahiye THANK YOU SO MUCH Mai kaya batau ki appki kahani padhane mera kitana hausala badh
    jata hai appki tariph likh karu ya fir bol kuru har tarah se karu tabhi app jo shiksha dete hai usase kam ho jata hai

  14. बहुत ही बढ़िया हिंदी कहानियो का संग्रह

  15. कहानियों का बहुत ही शानदार संकलन है, मेरी दुआ है ईश्वर आपके इस प्रयास को बुलंदियों से नवाजे…..

  16. bahut achchhi story hai. pahli kahani se hame ye sikh milti hai ki Ager ham lagatar sirf mehanat kare aur apne kaam ko jyada viksit/ develop karne me koi dimag/technique na lagae aur aur naye naye tarike/trick ko na aajmae to hame sirf mehanat ke bal pe utni achchhi kamyabi/success nahi mil paati jitni develop trick , think aur technique use se milti hai.

    Aur dusri story se ye sikh milti hai ki jo kaam hame galat lage use kabhi karna hi nahi chahie , jab ham galat work nahi karenge to wo hamari aadat nahi banegi aur bbad me hame uske lie pachhatana bhi nahi padega.

    Thanks. itni achchhi sikh dene ke lie.

Close