Hindi Poem

  • Deshbhakti Kavita

    देशभक्ति कविता इन हिंदी : चन्द्रशेखर आजाद! Desh Bhakti Poem

    देश प्रेम पर देशभक्ति कविता ये देशभक्ति कविता (Hindi Deshbhakti Kavita/Poem) महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के बलिदान और उनके आजाद भारत के सपने पर आधारित है| इस हिंदी देशभक्ति कविता में कवि ने अपनी बातों से झकझोर कर रख दिया है| जिस आजादी के लिए चंद्रशेखर आजाद और भगत सिंह जैसे वीरों ने अपनी कुर्बानी दी थी, क्या आज उन सेनानियों के लिए हमारे हृदय में कोई स्थान नहीं है| चंद पैसे और कुर्सी के लालच में लोग इन क्रांतिकारियों का मजाक उड़ाने तक से बाज नहीं आते| कुछ ऐसे ही विद्रोही बोलों के साथ कवि ने यह कविता लिखी…

    Read More »
  • Desh Bhakti Geet - Apni Aazadi Ko Hum Hargij Mita Sakte Nahi

    आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

    ये देश भक्ति गीत उन शहीदों को समर्पित हैं जिन्होंने अपने लहू की बूंदों से आजाद भारत की धरती को सींचा है| इन लोकप्रिय Desh Bhakti Geet in Hindi और गानों के माध्यम से हम आजादी के उन दीवानों को नमन करते हैं जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी| ये सभी देश भक्ति गीत फिल्मों से और विभिन्न लेखों से लिए गये हैं – अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं सर कटा सकते हैं लेकिन, सर झुका सकते नहीं हमने सदियों में…

    Read More »
  • [श्रमिक दिवस] मजदूर दिवस पर कविता : Poem on Labour Day in Hindi

    रामदीन जी द्वारा रचित मजदूर दिवस पर कविता श्रमिक दिवस पर कविता आज हम आप लोगों के समक्ष कवि रामदीन जी द्वारा रचित, मजदूर दिवस पर एक विशेष कविता प्रस्तुत कर रहे हैं – मजदूर हैं हम, मजबूर नहीं चलता है परदेश कमाने हाथ में थैला तान थैले में कुछ चना, चबेना, आलू और पिसान… टूटी चप्‍पल, फटा पजामा मन में कुछ अरमान ढंग की जो मिल जाये मजूरी तो मिल जाये जहान।। साहब लोगों की कोठी पर कल फिर उसको जाना है तवा नहीं है फिर भी उसको तन की भूख मिटाना है… दो ईटों पर धरे फावड़ा रोटी…

    Read More »
  • सरस्वती वंदना गीत : हे शारदे माँ, हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी | Saraswati Vandana in Sanskrit & Hindi

    माँ सरस्वती की पूजा के लिए सरस्वती वंदना गीत का विशेस महत्व है| माँ सरस्वती ज्ञान की देवी और भगवान ब्रह्मा की मानसपुत्री हैं| ज्ञानदायिनी माँ सरस्वती श्वेत वस्त्र धारण करती हैं और उनके हाथों में सदैव वीणा शोभायमान रहती है| समस्त छात्रों और ज्ञानार्जन के इच्छुक व्यक्तियों को माँ सरस्वती की वंदना करनी चाहिए, क्यूंकि माँ ज्ञान का दात्री हैं उन्हीं की कृपा से हमारी बुद्धि और मन कार्य करते हैं| हम यहाँ सरस्वती वंदना गीत शेयर कर रहे हैं| विद्यालयों में पढने वाले छात्र व छात्रा इनको अपने पाठ्यक्रम में भी शामिल कर सकते हैं – माँ सरस्वती…

    Read More »
  • Happy New Year Poem in Hindi New* : नव वर्ष पर कविता साहित्य

    Top 5 Happy New Year Poem in Hindi 2018 नया सवेरा, नयी उमंगे और नए साल के उपलक्ष में नव वर्ष पर कविता प्रस्तुत कर रहे हैं| नव वर्ष की ये कवितायें आपके मन को छू लेंगी क्यूंकि सभी कविताओं में नववर्ष की सुन्दरता और इसके महत्व को दर्शाया गया है| इन सभी कविताओं को पढ़कर आपके अंदर इस नए साल में कुछ नया करने का जूनून जागेगा| नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है, खुशियों की बस इक चाहत है।   नया जोश, नया उल्लास, खुशियाँ फैले, करे उजास।   नैतिकता के मूल्य गढ़ें, अच्छी-अच्छी बातें पढें। कोई भूखा पेट न…

    Read More »
  • क्रिसमस पर कविता : Christmas Poem in Hindi for Kids & Children

    बच्चों के लिए क्रिसमस पर कविता जिंगल बैल्स बस रहे हैं साल खत्म हो रहा है पर उससे पहले 25 दिसंबर क्रिसमस आ रहा है, क्रिसमस आ रहा है क्रिसमस ट्री लायेंगे उसे सजायेंगे ऊँची डाली पर, तारा लगायेंगे अच्छे बच्चे बनेंगे, सांता याद करेंगे, तोहफे लायेंगे हाथ मिलाएंगे   क्रिसमस आ रहा है, क्रिसमस आ रहा है क्रिसमस प्यार का उत्सव है, जादू कर देता है, मन को छू लेता है, प्यार से भर देता है   क्रिसमस आ रहा है, क्रिसमस आ रहा है… क्रिसमस आया पास में, बच्चे करे पुकार सान्ता लेकर आएंगे, झोला भर उपहार ।…

    Read More »
  • गांव पर कविता ~ मेरा गांव ~ गांव और शहर की जिंदगी पर कविता

    Heart Touching Poem on Village in Hindi तेरी बुराइयों को हर अखबार कहता है.. और तू मेरे गाँव को गँवार कहता है…. ऐ शहर मुझे तेरी औकात पता है, तू चुल्लू भर पानी को वाटर पार्क कहता है… थक गया है हर शख्स काम करते करते, तू इसे अमीरी का बाजार कहता है… गाँव चलो वक्त ही वक्त है सबके पास, तेरी सारी फुर्सत तेरा इतवार कहता है… मौन होकर फोन पर रिश्ते निभाए जा रहा है, तू इस मशीनी दौर को परिवार कहता है… जिनकी सेवा में बिता देते सारा जीवन, तू उन माँ-बाप को खुद पर बोझ कहता…

    Read More »
  • Short Poem on Teachers Day in Hindi | शिक्षक दिवस पर 5 कविताएं

    5 Best Poem on Teachers Day in Hindi for Students ये प्रेरक कविताएं राष्ट्र के उज्जवल भविष्य का निर्माण करने वाले शिक्षकों को समर्पित हैं| समस्त शिक्षकगणों के सम्मान में कुछ सुन्दर शिक्षक दिवस पर कविताएँ यहाँ उपलब्ध हैं| छात्र व् छात्राएं इन कविताओं को अपने गुरुओं को समर्पित करके उनका आभार व्यक्त करें – Teachers Day Hindi Poems सही क्या है, गलत क्या है, ये सब बताते हैं आप,झूठ क्या है और सच क्या है ये सब समझाते है आप, जब सूझता नहीं कुछ भी राहों को सरल बनाते हैं आप, जीवन के हर अँधेरे में, रौशनी दिखाते हैं…

    Read More »
  • Desh Bhakti Poems in Hindi

    Short Desh Bhakti Poem in Hindi | देशप्रेम पर 4 कविताएं

    इस लेख में आप Desh Bhakti Poem in Hindi पढ़ेंगे और ये सभी Patriotic Poems देशप्रेम की भावना पर आधारित हैं| समस्त भारतवासियों के लिए स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाओं सहित कुछ देशभक्ति कवितायेँ हम शेयर कर रहे हैं| यह कवितायेँ प्रसिद्ध कवियों द्वारा लिखीं गयी हैं| इनमें से कई कवितायेँ आपने बचपन में भी सुनी होंगी| हम भारतवासियों में अपने देश के प्रति जो प्रेम की भावना कूट कूट कर भरी है, यही भावना ही हमारे देश को दूसरे देशों से महान बनाती है| इस भारतवर्ष की पवित्र भूमि पर देवता भी जन्म लेने को तरसते हैं| धन्य हैं हम…

    Read More »
  • जयशंकर प्रसाद की हिंदी कविताएं | Jaishankar Prasad Poems in Hindi

    Hindi Poems of Jaishankar Prasad : कवि जयशंकर प्रसाद की 5 सुंदर कविताएं (Jaishankar Prasad Poems in Hindi) – बीती विभावरी जाग री, झरना, तुम्हारी आँखों का बचपन, हिमाद्रि तुंग शृंग से और सब जीवन बीता जाता है, को पढ़ें और छायावाद के प्रमुख कवि जयशंकर प्रसाद के अलंकृत शब्दों का आनंद लें| Contents बीती विभावरी जाग री – Jaishankar Prasad Hindi Poem तुम्हारी आँखों का बचपन – जयशंकर प्रसाद की कविता हिमाद्रि तुंग शृंग से – Poem of Jaishankar Prasad in Hindi झरना- जयशंकर प्रसाद की कविता सब जीवन बीता जाता है बीती विभावरी जाग री – Jaishankar Prasad…

    Read More »
Close