भगवान उन्हीं लोगों की मदद करते हैं जो स्वयं की मदद करते हैं

एक बार की बात है कि किसी दूर गाँव में एक किसान रहता था। उन दिनों बारिश का समय था चारों तरफ गड्ढों में पानी भरा हुआ था। कच्ची सड़क बारिश की वजह से फिसलन भरी हो गयी थी। सुबह सुबह किसान को बैलगाड़ी लेकर कुछ धन कमाने बाजार जाना होता था लेकिन आज बारिश की वजह से बहुत दिक्कत हो रही थी। फिर भी किसान धीरे धीरे सावधानी पूर्वक बैलगाड़ी लेकर बाजार की ओर जा रहा था।

God Help Those Who Help Themselves
God Help Those Who Help Themselves

अचानक रास्ते में एक गड्ढा आया और बैलगाड़ी का पहिया गड्ढे में फंस गया। कीचड़ भरे गड्ढे से निकलना काफी मुश्किल था। बैल ने भी अपनी पूरी ताकत लगायी लेकिन सफलता नहीं मिली। अब तो किसान बुरी तरह परेशान हो उठा। उसने चारों तरफ नजर घुमाई लेकिन ख़राब मौसम में दूर दूर तक कोई नजर नहीं आया। किसान सोचने लगा कि किससे मदद माँगे कोई इंसान दिखाई ही नहीं दे रहा। किसान दुखी होकर एक तरफ बैठ गया और मन ही मन अपने भाग्य को कोसने लगा। हे भगवान! ये तूने मेरे साथ क्या किया? कोई आदमी भी दिखाई नहीं दे रहा इतना खराब नसीब मुझे क्यों दिया? किसान खुद के भाग्य को कोसे जा रहा था।

तभी वहाँ से एक सन्यासी गुजरे उन्होंने किसान को देखा तो किसान सन्यासी के पास जाकर अपनी परेशानी बताने लगा। मैं सुबह से यहाँ बैठा हूँ, मेरी गाड़ी फँस गयी है और मेरा नसीब भी इतना ख़राब है कि कोई मेरी मदद करने भी नहीं आया। भगवान ने मेरे साथ बहुत अन्याय किया है। सन्यासी उसकी सारी बात सुनकर बोले- तुम इतनी देर से यहाँ बैठे अपने भाग्य को कोस रहे हो और भगवान को बुरा भला बोल रहे हो, क्या तुमने खुद अपनी गाड़ी निकालने का प्रयास किया?

किसान- नहीं,

सन्यासी- तो फिर किस हक़ से तुम भगवान को दोष दे रहे हो, भगवान उन्हीं लोगों की मदद करते हैं जो स्वयं की मदद करते हैं।

अब किसान के बात समझ में आ गयी उसने तुरंत पहिया निकालने का प्रयास किया और वो सफल भी हुआ।

तो मित्रों हममें से ज्यादातर लोग उस किसान की ही तरह हैं जो खुद कुछ नहीं करना चाहते और हमेशा अपने भाग्य और दूसरे लोगों को कोसते रहते हैं। हमें लगता है कि भगवान ने हमारे साथ बहुत गलत किया है। हममें से कोई डॉक्टर बनना चाहता है, कोई इंजिनियर, कोई कलेक्टर, कोई Businessman लेकिन जब हम अपने काम में सफल नहीं होते तो यही विचार हमारे दिमाग में आता है कि हमारा भाग्य ख़राब है और भगवान ने कुछ नहीं दिया। लेकिन शायद आप भूल रहे हैं कि भगवान ने आपको, हम सबको एक बहुत अमूल्य चीज़ दी है- ये शरीर। आपके अंदर हर सामर्थ्य है तो फिर आप भाग्य भरोसे क्यों हैं? भगवान भी उन्हीं लोगों की मदद करते हैं जो खुद की मदद करते हैं। किसी महान पुरुष का एक दोहा है –

विद्या धन उद्धम बिना, कहूँ जो पावे कौन ,
बिना डुलाये ना मिले, ज्यूँ पंखा की पौन

मतलब बिना कार्य किये आप कुछ नहीं पा सकते। जैसे आपके सामने पंखा रखा हो लेकिन वो जब तक आपको हवा नहीं देगा जब तक उसे अपने हाथ से झलेंगे नहीं।

तो मित्रों इस लेख का सार यही है कि आप खुद की मदद करिये तभी भगवान भी आपकी मदद करेंगे तो आओ आज मिलकर एक साथ शपथ लेते हैं कि कभी अपने भाग्य को नहीं कोसेंगे और स्वयं ही अपने कर्णधार बनेंगे।

आपके विचार हमारे लिए अमूल्य हैं कृपया कमेंट नीचे जरूर करें धन्यवाद !!

ये कहानियां प्रेरक और सकारात्मक हैं जरुर पढ़ें –
क्या है खुशियों का राज
साहस हिम्मत- Hindi Kahani
चित्रकार और एक अपंग राजा की कहानी
सफल व्यक्ति के गुण | सफल और असफल लोगों में फर्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

43 Comments

  1. सही बात है हमे अपनी help खुद करनी चाहिए.
    अच्छी सीख मिली.

  2. बहुत ही अच्छी और ज्ञानीयों की सोच वाली कहानी है।

    आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

  3. नमस्कार सर,मै आपकी कहानियां नियमित पढता हूं ! आपकी कहानियां बहुत बहुत ही अच्छी है इससे मेरी जिदगीं में बहुत ही फर्क आया है आपकाे बहुत बहुत धन्यवाद

  4. यह बहुत अच्छी और प्रेरणदायी कहानी है . मुझे यह कहानीे बहुत अच्छी लगी.
    धन्यवाद

  5. such me bhut ahchi kahaniya he jo y sab asal jindgi me hota h wahi he hamko khbi bhagwan ko dosh nahi dena cahiye balki mehnat karni cahiye thanx bhut ahchi siksha mili y kahaniya padkar its really nice

  6. बिलकुल सही है जो मनुष्य अपनी मदद स्व्यं करेगा
    भगवान भी उसी की मदद करेंग।
    जय श्री कृष्णा।

    1. Ye such me bahut Aacha story h agar life me kabhi fail hote hai to uske piche region yahi hai ki KADI MEHNNAT NA KARNA thanks me bhi Business karta hu jo home base h Aur matra ONE hour agar koi MLM NETWORKING me interested hai to plz call me
      8409930268 / 9471310032 Thanks for call me

  7. BAHOT HI ACHCHI KAHANI JO KISI KI DIL AUR DIMAG KO GHUMAKE RAKHTA HAI.. REALLY TRUE MOTIVATIMAL STORY.. POST KE LIYE THANK YOU SO MUCH SIR JI.. WAKAI JINDAGI KO BADALNE WALE STORY LIKHTE HAI AAP,.PHIR EK BAR THANK YOU AAPKO..

Close