खुद वो बदलाव बनिये जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं – How to Change the World

Change Yourself to Change the World

विश्वनाथ पूरे गाँव में अकेले पढ़े लिखे इंसान थे। एक स्कूल में सरकारी टीचर के तौर पर काम करते थे। बच्चों को शिक्षा देते देते एक दिन विचार आया कि क्यों ना कुछ ऐसा किया जाए जिससे दुनिया बदल जाये? क्यों ना पूरी दुनिया को सुधारा जाये? बस मन में आये इस विचार ने विश्वनाथ को रात भर सोने नहीं दिया।

सुबह उठते ही वो गाँव के सरपँच के पास पहुँचे और बोले कि मैं इस दुनिया को बदलना चाहता हूँ। सरपँच उनकी बात सुनकर हँसने लगा- गुरूजी इतना आसान नहीं है दुनिया को बदलना, आप ये विचार छोड़ दें तो ही अच्छा है।

लेकिन विश्वनाथ ने ठान लिया था और इसी वजह से वो कई लोगों से मिले पर कोई फायदा नहीं हुआ।

अब वो अकेले ही सामाजिक कार्यों में लग गए लेकिन जल्दी ही ये सच्चाई समझ आ गयी कि दुनिया को बदलना इतना आसान नहीं है। तो मन में सोचा- दुनिया नहीं बदल सकता तो क्या मैं अपने देश को तो सुधार ही सकता हूँ। बस विश्वनाथ फिर से जुट गए।

समय बीता, बहुत जल्दी ये अहसास हो गया कि देश को बदलना तो बहुत मुश्किल काम है तो सोचा क्यों ना अपने गाँव को सुधारा जाये, अगर मैं अपने गाँव को सुधार पाया तो ये भी अपने आप में बड़ी उपलब्धि होगी। इसी तरह विश्वनाथ ने अपना जीवन सामाजिक कार्यों में लगा दिया और समय के साथ अब वो बूढ़े हो चले थे। पर गाँव रहा वैसा का वैसा, एक दिन सोचा कि पूरे गाँव को नहीं बदला जा सकता तो क्यों न अपने परिवार को सुधारा जाये।

समय और बीता, उम्र के साथ जब जीवन का अनुभव हुआ तो विश्वनाथ ने पाया कि एक काम जो सबसे आसान है, वो है खुद को बदलना, उन्हें अहसास हुआ कि काश मैंने खुद को बदला होता तो मेरा असर मेरे परिवार पर पड़ता फिर मेरे परिवार से पड़ोस सुधरता और फिर पड़ोस से पूरा गाँव। इसी तरह पूरा देश भी सुधर सकता था और फिर दुनिया को बदलते देर नहीं लगती।

मित्रों, महल कितना बड़ा और विशाल क्यों ना हो लेकिन बनता वो ईंटों से ही है और इस संसार रूपी महल की ईंटें हम लोग हैं, शिखर भी हम और नींव भी हम। खुद को सुधारिये, सकारात्मक सोच रखिये फिर देखिये दुनिया बदलते देर नहीं लगेगी|

हिंदीसोच.कॉम की मदद से हम लगातार लोगों में सकरात्मकता लाने का प्रयास करते आये हैं और आगे भी ये प्रयास जारी रहेगा| आप लोग भी अपने सगे सम्बन्धियों के साथ ये कहानियां जरुर शेयर किया कीजिये और अगर आपके पास हिंदीसोच को बेहतर बनाने के लिए कोई सुझाव है तो हमें कमेंट में लिखकर भेज दें| हमें आपके संदेशों का इन्तजार रहेगा| धन्यवाद!!

ये कहानियां आपको झकझोर देंगी –
सुभाषिनी मिस्त्री ~ जहाँ चाह वहां राह
परिवार का महत्व बतलाती छोटी कहानी
सफल करियर के लिए कितना जरुरी है लक्ष्य बनाना
राजा और तोते की प्रेरक कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

23 Comments

  1. I dont know how to type in hindi thats why i am writing in english. your all short stories are wonder ful .They are giving us +ve energy .I am reading your stories regularly and very much satisfied. All stories are giving us some inspiration.

    Thanks u very much

    vinod aggarwal

  2. बहुत अच्छा लगा । मैं भी अपने आप को पहले सुधारुंगा ।

  3. Thanks to ‘The Pramey’, it gives me the way to change, through your website. I m visiting this site for first time. The story is really nice. But because it is time to change this contemporary Indian. Thanks to all team….

  4. its an awesome story its amazing.
    i had told this story in school and
    got 1 place. thank you for this .
    you have done a good job

Close