ज्ञान की बातें* – आपके दोस्त नहीं चाहते कि आप सफल हों

ज्ञान की बातें – Your Friends Do not Want You to Succeed

कई बार बड़े बुजुर्गों के मुँह से कुछ ऐसी बातें सुनने को मिलती हैं – “मुसीबत में कोई साथ नहीं देता”, “जब परेशानियाँ आती हैं तो अपने भी पराये हो जाते हैं”। ऐसी कुछ बातें हम अक्सर अपने दादा दादी या माता पिता या अन्य बड़े लोगों से सुनते आते हैं। ये बातें 100% सत्य हैं और आपने खुद अपने जीवन में ऐसे कुछ अनुभव देखे होंगे।

अगर मैं कहूँ कि आपके दोस्त आपको कभी सफल होता नहीं देखना चाहते – तो आपको कैसा लगेगा? हो सकता है कुछ लोगों को ये बात बुरी भी लगे लेकिन ये सच है। आपके वो दोस्त जिनसे आपकी बहुत गहरी दोस्ती है वो कभी नहीं चाहेंगे कि आप सफल हों।

आपने वो “3 इडियट” मूवी देखी होगी उसमें एक डायलॉग है – “दोस्त जब फेल होता है तो दुःख होता है लेकिन जब दोस्त टॉप करता है तो और ज्यादा दुःख होता है”। कभी आजमा के देखिये ये डायलॉग आप पर भी फिट बैठेगा।

Dost jab fail hota hai to dukh hota hai lekin jab dost top aata hai to aur jyada dukh hota hai

सच कहूं तो इसमें आपके दोस्तों की भी गलती नहीं है, ये एक इंसानी प्रवर्ति ही है। जब तक हम अपने दोस्तों के जैसे ही हैं, तब तक सब कुछ ठीक रहता है। मतलब अगर आपके दोस्त आपके बराबर ही पैसे कमा रहे हैं, या क्लास में आपके नंबर दोस्त के कम या दोस्तों जैसे ही आते हैं या आपका रहन सहन दोस्तों के जैसा ही है, तब तक सबकुछ बढ़िया चल रहा होता है लेकिन जैसे ही आप बंदिशों को तोड़कर आगे बढ़ते हैं, आपके दोस्त आपको ईर्ष्या की नजर से देखने लगते हैं।

क्यूंकि आपके दोस्त असफल हैं इसलिए वो आपको भी सफल होता नहीं देखना चाहते। अगर आप कामयाब हो जाते हैं तो आपके दोस्त खुद को छोटा मानने लगते हैं। आपकी सफलता उनके चेहरे पे एक थप्पड़ की तरह होती है। उनको लगता है जैसे उनके अंदर कमियां हैं और अपनी कमियां वो सुधारना नहीं चाहते बस इसलिए वो आपको भी सफल होते देखना नहीं चाहते।

कभी आजमा के देखना, जब आप किसी बड़े मुकाम के लिए कोई काम कर रहे हों और उस वक्त किसी दोस्त की मदद की जरूरत पड़े और आपके गहरे मित्र भी अापकी मदद ना करें तो समझ जाना वो दोस्त नहीं चाहते कि आप कामयाब हों।

मैं फिर कहना चाहता हूँ कि इसमें आपके दोस्तों की गलती नहीं है| सभी लोग ऐसे ही होते हैं – अाप भी और मैं भी| जब कोई इंसान हमसे अागे निकलता है तो दुख होता ही है|

अंग्रेजी की एक बहुत सुंदर कहावत है – “it’s lonely at the top”- मतलब शिखर पर इंसान हमेशा अकेला होता है

याद रखना जब आप भी अपनी कामयाबी के शिखर पर होगे तो अकेले होगे लेकिन डगमगाना नहीं है। आपको मुसीबतों से घबराना नहीं है, खड़े रहना है, अडिग रहना है, पूरी मजबूती से, पूरी दृढ़ता से…….

कैसा लगा ये लेख दोस्तों? अगर अच्छा लगा हो तो आपको हमारा एक काम करना होगा 🙂 नीचे कमेंट बॉक्स लगा है, वहाँ जाएँ और इस लेख के बारे में एक कमेंट जरूर लिखकर भेजें। धन्यवाद!!!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

156 Comments

  1. gareebi tod deti he wo rishte….
    ………jo khas hote he……….
    paraye bhi apne ho jate he….
    …….. jab paisa pas hota he….
    pawan ji aapne bilkul satya baate likhi he
    me aaplke is lekh se bohot adhik prabhavit hu..
    …lekin har koi in lekho ko padhta jaroor he par jivan me nahi la paata he..
    thank you…

  2. Hello friends.
    this is true story when i go to a seminar where i know that truth which is unexpected .
    You Read on my website.
    ThanksAlotFOR write this post.

  3. ye bat bilkul sahi hai sir jab dost musibat me sath deta hai to bahut acha lagata
    agar musibat me chhod deta hai bahut bura lagata hai
    thanks sir

  4. I was unaware of this fact. I came to know about this only after reading this article. thanks for posting such a wonderful information.

  5. sir is kahani se mai istna prerit hu ki mai aapko batla nahi sakta thankyou very much sir
    all the best for all web side staff

  6. ITS 200% TRUE BECAUSE I FILL THIS HISTORY THANK YOU THANK,S VERY MUNCH
    ALL THE BEST YOUR STAFF IN WEB SIDE GOOD BAY

  7. SIR A KAHANI SE HUME A SHIKSHA MILTI HAI KI APNI MANJIL KO KOI DOST NAHI BALKI HAM KHUD PURA KAR SAKTE HAI DUSRO PAR NAHI APNE BAJUO PAR VISHWASH KARO
    BHAGAT SINGH KI EK BAAT YAAD AA GAI JINDAGI TO APNE KANDHO PAR JI JATI HAI DUSRO KENKANDHO PAR TO JANAJE UDHAYE JATE HAI

  8. आपने एक दम सही बोला मेरे साथ एक दोस्त ने ऐसा किया था

  9. दुनिया में हर किस्म के लोग होते है जो आपके भरोशे के काबिल भी होते है और भरोशे के धोखा भी देने वाले भी लोग
    ऐसे में हमे अपने मित्र जो भी बनाए वो सच्चे होने चाहिए फिर फिर वही हमारे सच्चे हितैषी हो सकते है
    बहुत ही बढ़िया पोस्ट थैंक्स फॉर शेयर

  10. Aaj kal yahi hota hai logo ke sat…paise hote hai to …dusman… Bhi dost ban jate hai..paise nii hoti to tab dost bhi dusman ban jate hai……
    Thank you in your story…..

  11. आपका लेख पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा मै भगवान से यही कामना करता हूँ कि आप जैसी मेहनत, लगन और शक्ति मुझे भी दे

  12. Its a ture frnd 100% sahi kaha haii ess story neh sab saale matlabhi hote haii kisi ko bhi aage badne nhi dete haii khud tuu koi kaam nhi hota hai our jab hum koi kaam kar rahe hote haii fir unke bekar ke kaam aa jate haii..lekin woo kabhi bhi apke kaam nhi aayege cahe tuu frnds aazmaa kar dekh lena apne dosto koo yeh mera personally experience haii sab saale kamine hote haii..ekk kamiyab insan humesha apne dosto ke sath khadaa rahega par wohi apka dost kabhi apka sath nhi degaa jab aap kabhi kisi problem meh hooge naa tu wohi kamina dost kya kahega ki yaar meh busy huu yaar kuch kamm se aaya huya huu..jaise pata nhi saalo ki konsi factory chal rahi hoti haii..our bahut kuch haii lekhne ke liye my dear redars Parsons..
    Regards
    Nikhil Rishi Mishra
    East Delhi ke Dilshad Garden se..
    Kisi ko kuch reply karna huu meri mail id ess parakar hai
    [email protected] yahoo.com (Facebook ki bhi yahi id hai)

  13. Apki kahaniya mane padi ha bahut sach ha en kahanioa ko shayad agar mena pehla padi hoti to ma ek fasla kar pati par mujha koi dukh nahi ha kyoki ya sab kahaniya ma apna betto ko jarur sunati hu apka dhanya vade sukria ji

  14. This story is really very awakening ,friends are only those with whom we can enjoy our moments so long where we all are at par with them ,once we cross the boundary and getting higher in career then its reveal that no friends wants us to be on the top.

  15. mushibato k rasto se kese nikalna h ya mushibato
    ko kese jannana h……uske liye Ye bahut achi inspair story h ….good

  16. Sir jis fild me gya vo hai direct sale me fail bhi ho rha hu pr fir bhi mene har nahi mani pr fir bhi sir mn me sir ek jijak rhati hai ki kya me such me is fild me succes ho paunga ya nahi me kis taraha se apne mn aatmvisvas banaye rkhu

  17. Dekho frds sab logo ka nature alag hota h mere bhi 4 dost hai jinke name h Rahul yadav, Rohit, suraj abhishek vo bht h ache h mai aankh band krke un par bharosha krta hu or vo mujhe kamiyab hota dekh bht he khush hote h ई love My best buddies

  18. Right bilkul sahi baat h dosto
    Aaj mere bhai ne mujhe khud dhokha diya sirf khud ko dusro ke nazar me bada banne k liye

  19. अटल सत्य
    लेख पड़कर कई लोगों की आंखे खुल जाएंगी और कारण समझ आने पर वो अपनी मंजिल को निश्चित ही पा लेंगे।

  20. Thanks Mr Sandeep Jee, me apse milna chahta hu. .. Kya ap miloge mujhse
    Cell phone – +91 99333 33782 / 94300 18066
    Kishanganj Bihar
    Munna

  21. Nice bhai g ye aapka speech mujhe jina sikha diya
    Mujhe ek help chahiye job ya business kro please bhai reply my massage OK bye. …….

  22. सही कहा भाई मैंने भी अपने जीवन में कई बार इस बात का अनुभव किया हैं

  23. बहोत अच्छा है जी इसमें जो कुछ भी बताया गया है वह पुर्ण सत्य है ये हमारे साथ होता रहता है

Close