ईमानदारी की कहानी – ईमानदारी ही सबसे बड़ा धन है

Honesty is priceless
Honesty is priceless

मुरारी लाल अपने गाँव के सबसे बड़े चोरों में से एक था। मुरारी रोजाना जेब में चाकू डालकर रात को लोगों के घर में चोरी करने जाता। पेशे से चोर था लेकिन हर इंसान चाहता है कि उसका बेटा अच्छे स्कूल में पढाई करे तो यही सोचकर बेटे का एडमिशन एक अच्छे पब्लिक स्कूल में करा दिया था।

मुरारी का बेटा पढाई में बहुत होशियार था लेकिन पैसे के अभाव में 12 वीं कक्षा के बाद नहीं पढ़ पाया। अब कई जगह नौकरी के लिए भी अप्लाई किया लेकिन कोई उसे नौकरी पर नहीं रखता था।

एक तो चोर का बेटा ऊपर से केवल 12 वीं पास तो कोई नौकरी पर नहीं रखता था। अब बेचारा बेरोजगार की तरह ही दिन रात घर पर ही पड़ा रहता। मुरारी को बेटे की चिंता हुई तो सोचा कि क्यों ना इसे भी अपना काम ही सिखाया जाये। जैसे मैंने चोरी कर करके अपना गुजारा किया वैसे ये भी कर लेगा।

यही सोचकर मुरारी एक दिन बेटे को अपने साथ लेकर गया। रात का समय था दोनों चुपके चुपके एक इमारत में पहुंचे। इमारत में कई कमरे थे सभी कमरों में रौशनी थी देखकर लग रहा था कि किसी अमीर इंसान की हवेली है।

मुरारी अपने बेटे से बोला – आज हम इस हवेली में चोरी करेंगे, मैंने यहाँ पहले भी कई बार चोरी की है और खूब माल भी मिलता है यहाँ। लेकिन बेटा लगातार हवेली के आगे लगी लाइट को ही देखे जा रहा था।

मुरारी बोला – अब देर ना करो जल्दी अंदर चलो नहीं तो कोई देख लेगा। लेकिन बेटा अभी भी हवेली की रौशनी को निहार रहा था और वो करुण स्वर में बोला – पिताजी मैं चोरी नहीं कर सकता।

मुरारी – तेरा दिमाग खराब है जल्दी अंदर चल

बेटा – पिताजी, जिसके यहाँ से हमने कई बार चोरी की है देखिये आज भी उसकी हवेली में रौशनी है और हमारे घर में आज भी अंधकार है। मेहनत और ईमानदारी की कमाई से उनका घर आज भी रौशन है और हमारे घर में पहले भी अंधकार था और आज भी

मैं भी ईमानदारी और मेहनत से कमाई करूँगा और उस कमाई के दीपक से मेरे घर में भी रौशनी होगी। मुझे ये जीवन में अंधकार भर देने वाला काम नहीं करना। मुरारी की आँखों से आंसू निकल रहे थे। उसके बेटे की पढाई आज सार्थक होती दिख रही थी।

मित्रों। बेईमानी और चोरी से इंसान क्षण भर तो सुखी रह सकता है लेकिन उसके जीवन में हमेशां के लिए पाप और अंधकार भर जाता है। हमेशा अपने काम को मेहनत और ईमानदारी से करें।

बेईमानी की कमाई से बने पकवान भी ईमानदारी की सुखी रोटी के आगे फीके हैं। कुछ ऐसा काम करें कि आप समाज में सर उठा के चल सकें। दोस्तों ये कहानी आपको कैसी लगी कृपया हमें कमेंट करके जरूर बताइए और हमारी कहानियों को अपने ईमेल पर प्राप्त करने के लिए subscribe करें, Subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रेरक कहानियां आपको नित्य नयी प्रेरणा के लिए –
जियो तो हर पल ऐसे जियो जैसे कि आखिरी हो
पुष्प की अभिलाषा
सड़कों पर चूड़ी बेचने वाला बना IAS अफसर
समस्याओं पर नहीं लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

31 Comments

  1. Hi sir mai aapke blog ko daily visit karta hu par abi tak comment nahi kiya. Aapne itni achi post ki hai ise dekh kar raha nahi gaya thanks for this post. Aisi kahaniya jyada post kariye is se hume motivation milta hai.

  2. Bahut achhi story hai. Sach me sachhi lgan aur mehnat se hi future bright hota h. Imandar admi hmesa aage rhta h. Very nice story.

  3. It’s a very nice site for stories and I am studying as a student in school. I have learnt a lot of valuable things of life from this site

  4. ईमान ही धन है, ईमान ही उजाला है। इस दुनिया मैं हर इंसान ईमान की कमाई से बड़ा बना है। हराम ओर चोरी की कमाई करने से जीवन में कभी सुख का अनुभव ही नहीं होता।

Close