सब्र का फल, Inspirational Hindi Story of Buddha

Buddha Inspirational Story in Hindi

बात उस समय की है जब महात्मा बुद्ध विश्व भर में भ्रमण करते हुए बौद्ध धर्म का प्रचार कर रहे थे और लोगों को ज्ञान दे रहे थे|

एक बार महात्मा बुद्ध अपने कुछ शिष्यों के साथ एक गाँव में भ्रमण कर रहे थे| उन दिनों कोई वाहन नहीं हुआ करते थे सो लोग पैदल ही मीलों की यात्रा करते थे| ऐसे ही गाँव में घूमते हुए काफ़ी देर हो गयी थी|

बुद्ध जी को काफ़ी प्यास लगी थी| उन्होनें अपने एक शिष्य को गाँव से पानी लाने की आज्ञा दी| जब वह शिष्य गाँव में अंदर गया तो उसने देखा वहाँ एक नदी थी जहाँ बहुत सारे लोग कपड़े धो रहे थे कुछ लोग नहा रहे थे तो नदी का पानी काफ़ी गंदा सा दिख रहा था|

be Patienceशिष्य को लगा की गुरु जी के लिए ऐसा गंदा पानी ले जाना ठीक नहीं होगा, ये सोचकर वह वापस आ गया| महात्मा बुद्ध को बहुत प्यास लगी थी इसीलिए उन्होनें फिर से दूसरे शिष्य को पानी लाने भेजा| कुछ देर बाद वह शिष्य लौटा और पानी ले आया|

महात्मा बुद्ध ने शिष्य से पूछा की नदी का पानी तो गंदा था फिर तुम साफ पानी कैसे ले आए| शिष्य बोला की प्रभु वहाँ नदी का पानी वास्तव में गंदा था लेकिन लोगों के जाने के बाद मैने कुछ देर इंतजार किया| और कुछ देर बाद मिट्टी नीचे बैठ गयी और साफ पानी उपर आ गया|

बुद्ध यह सुनकर बड़े प्रसन्न हुए और बाकी शिष्यों को भी सीख दी कि हमारा ये जो जीवन है यह पानी की तरह है| जब तक हमारे कर्म अच्छे हैं तब तक सब कुछ शुद्ध है, लेकिन जीवन में कई बार दुख और समस्या भी आते हैं जिससे जीवन रूपी पानी गंदा लगने लगता है|

कुछ लोग पहले वाले शिष्य की तरह बुराई को देख कर घबरा जाते हैं और मुसीबत देखकर वापस लौट जाते हैं, वह जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ पाते वहीं दूसरी ओर कुछ लोग जो धैर्यशील होते हैं वो व्याकुल नहीं होते और कुछ समय बाद गंदगी रूपी समस्याएँ और दुख खुद ही ख़त्म हो जाते हैं|

तो मित्रों, इस कहानी की सीख यही है कि समस्या और बुराई केवल कुछ समय के लिए जीवन रूपी पानी को गंदा कर सकती है| लेकिन अगर आप धैर्य से काम लेंगे तो बुराई खुद ही कुछ समय बाद आपका साथ छोड़ देगी|

आप लोगों को ये कहानी कैसी लगी, नीचे comment के ज़रिए हमें ज़रूर बताएँ, धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

123 Comments

  1. Kahte hai insan ki zindagi ek maha nadi ki tarah hai jo apne bahaw dwara har disawo me rah bna leti hai.

  2. keep patience and wait(work) a golden time of success will come as a bright day come after dark night

  3. weak willed persons ke liye bahut achha kahaani hai…
    Ise pad kar ve log apne life me aage bad sakte hai…
    All of these bahut achha kahaani hai…

  4. Very very nice story…
    App ki har story kuch na kuch sikhati hai. Man ko bahut sukun bahut hi acha fill hota hai apki ye inspirational story pad kar… i thing jis b person ki jine ki ummid chhut gai ho wo in stories ko pad kar bahut hi strong fill karta hoga.. Life ko injoy karne ki jine ki jaise vajah mil jati hai,….
    Thanks, I like your all stories.

  5. Dear sir,

    I read your most of the stories that is wonderful and excellent and have a power to inspire human being always.If anybody wants to learn from that stories and follow them undoubtedly he will become as a great man in future………..

  6. dekhne k liy ek pal kafi h
    yad krne k liy ek din kafi h
    milne k liy ek sal kafi h par
    use bhulne k liy jindagi chhoti h……

    nice story

  7. patience in life can make us reach out for the stars. life is not about living in the future or in the past. life is about accepting the present moment

  8. VERY NICE STORY
    HAMHE ISS SE YE SIKH MILTI H JO KAAM KRNA H USE JALDI KRNE KI NHI SOCHE VO HEE KAAM THODI SANTI M HO BHUT ACHAA HOTA HAI

  9. बहुत ही अच्छा story है. इस से कुछ सिखने को मिलता है

  10. nice story and this story is popular among the people for thinking and when you think any people’s is bad then you learn this people good things then that is better
    always helps old man and others who has some problem then you call a superior person in the society
    THANKS
    i have a nice day

  11. BUDDHA NEVER ACCEPT THE THEORY OF AATMA (SOUL)… INDIAN PEOPLE SAYS HIM MAHATMA… WHY SUCH BIG IGNORANCE DELIBERATELY WRITES?? WHY ??

  12. Nice story … सुन्दर सृजन … महात्मा बुद्ध बहुत ही विद्वान पुरुष है जिन्होंने सत्य की खोज में अपना जीवन समर्पित कर दिया | आपकी website हिंदी सोच को में फोलो करता हु |
    निपाह वायरस और ट्रीटमेंट के बारे में पढने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये – healthpathy.com/nipah-virus-sign-symptoms-and-treatment

  13. Its really very inspiration story ….
    Whenever I want to take any decision it become wrong I don’t know why !
    I always think positive and I am very kind …
    I wanted to do something good for any one that will opposite to that …..
    I always follow budha techniques but my result is always wrong …..
    Plz tell me how I can take correct decision …!!

Close