इंसान और भगवान Human and The God

Insaan aur Bhagwan Motivational Story in Hindi
Insaan aur Bhagwan Motivational Story in Hindi

एक बार एक गरीब किसान एक अमीर साहूकार के पास आया, और उससे बोला कि आप अपना एक खेत एक साल के लिए मुझे उधार दे दीजिये। मैं उसमें मेहनत से काम करुँगा, और अपने खाने के लिए अन्न उगाऊंगा।

अमीर साहूकार बहुत ही दयालु व्यक्ति था। उसने किसान को अपना एक खेत दे दिया, और उसकी मदद के लिए 5 व्यक्ति भी दिए। साहूकार ने किसान से कहा कि मैं तुम्हारी सहायता के लिए ये 5 व्यक्ति दे रहा हूँ, तुम इनकी सहायता लेकर खेती करोगे तो तुम्हे खेती करने में आसानी होगी।

साहूकार की बात सुनकर किसान उन 5 लोगों को अपने साथ लेकर चला गया, और उन्हें ले जाकर खेत पर काम पर लगा दिया। किसान ने सोचा कि ये 5 लोग खेत में काम कर तो रहे हैं, फिर मैं क्यों करू? अब तो किसान दिन रात बस सपने ही देखता रहता, कि खेत में जो अन्न उगेगा उससे क्या क्या करेगा, और उधर वे पाँचो व्यक्ति अपनी मर्जी से खेत में काम करते। जब मन करता फसल को पानी देते, और अगर उनका मन नहीं करता, तो कई दिनों तक फसल सुखी खड़ी रहती।

जब फसल काटने का समय आया, तो किसान ने देखा कि खेत में खड़ी फसल बहुत ही ख़राब है, जितनी लागत उसने खेत में पानी और खाद डालने में लगा दी खेत में उतनी फसल भी खेत में नहीं उगी। किसान यह देखकर बहुत दुखी हुआ।

एक साल बाद साहूकार अपना खेत किसान से वापिस माँगने आया, तब किसान उसके सामने रोने लगा और बोला आपने मुझे जो 5 व्यक्ति दिए थे मैं उनसे सही तरीके से काम नहीं करवा पाया और मेरी सारी फसल बर्बाद हो गयी। आप मुझे एक साल का समय और दे दीजिये मैं इस बार अच्छे से काम करूँगा और आपका खेत आपको लौटा दूँगा।

किसान की बात सुनकर साहूकार ने कहा- बेटा यह मौका बार बार नहीं मिलता, मैं अब तुम्हें अपना खेत नहीं दे सकता। यह कहकर साहूकार वहाँ से चला गया, और किसान रोता ही रह गया।

दोस्तों अब आप यहाँ ध्यान दीजिये –

वह दयालु साहूकार “भगवान” हैं

गरीब किसान “हम सभी व्यक्ति” हैं

साहूकार से किसान ने जो खेत उधार लिया था, वह हमारा “शरीर” है

साहूकार ने किसान की मदद के लिए जो पांच किसान दिए थे, वो है हमारी पाँचो इन्द्रियां “आँख, कान, नाक, जीभ और मन”

भगवान ने हमें यह शरीर अच्छे कर्मो को करने के लिए दिया है, और इसके लिए उन्होंने हमें 5 इन्द्रियां “आँख, कान, नाक, जीभ और मन” दी है। इन इन्द्रियों को अपने वश में रखकर ही हम अच्छे काम कर सकते हैं ताकि जब भगवान हमसे अपना दिया शरीर वापिस मांगने आये तो हमें रोना ना आये।

इस ज्ञान को अपने जीवन में अपनायें और इस कहानी को आगे बढ़ाएँ।

ये कहानियां बनाएंगी आपको सफल –
उड़न परी पी. टी. उषा जिन पर पूरे देश को गर्व है
हर इंसान की एक अलग अहमियत होती है
बड़ा सोचो, जरा हट के सोचो
समस्याओं पर नहीं लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

16 Comments

  1. सर आपके द्वारा किया जा रहा हिंदी की उपलब्धियां और Positive विचार लोगो के लिए प्रेणना को स्रोत बन रहा है
    आप ऐसे ही लोगो को प्रेरित करते रहें

  2. sir mai kuchh dino se bahut jyaada disappoint hun pata nai mehnt karne ka mn nai karta pata nai kya ho gya hai sir mere ko motivate kariye . pahle mai bahut study karta tha. university topper hun .bt ab kuchh karne ka mn hi nai karta. help me sir

    thankyou

    1. Aapne jarur kuch negative bato ko apne mind me basa liya hai. Jo log aapko negative karte hai unse dur rhe. Aap university topper hain means aap kafi mehnati and positive the but kuch vajho se aap nagetive ho gaye hain. To sabse pahle turnt aise chizo aur logo se dur ho jaiye jo aapko negative krte hain

  3. Hello, I had created blog 3 months back and there are 30+ post in the blog but i haven’t purchase domain till. can i apply for Google Adsense. ? Can you Please check my blog and give me advice? Please sir.
    thefactsfile1.blogspot.com

Close