Dr Br Ambedkar Quotes in Hindi भीमराव अम्बेडकर के आदर्श वाक्य

Dr. Babasaheb Ambedkar Quotes in Hindi

डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू, इंदौर जिला, मध्य प्रदेश में हुआ था। ये “बाबासाहेब” के नाम से भी जाने जाते हैं। अंबेडकर जी उच्च कोटि के दार्शनिक, समाज सुधारक, क्रन्तिकारी होने के साथ भारतीय संविधान के रचनाकार भी हैं।

भारत रत्न से सम्मानित भीमराव अंबेडकर ने समाज में ऊंच नीच को सुधारने में काफी योगदान दिया। इनका जीवन बहुत ही संघर्ष पूर्ण रहा और इन्होंने भारत को सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक क्षेत्रों में अविस्मरणीय योगदान दिया इसीलिए इनको “आधुनिक भारत के निर्माता” भी कहा जाता है।

Dr Br Ambedkar Quotes and Hindi Thoughts

6 दिसम्बर 1956, को धरती माँ के इस सपूत की जीवन ज्योति हमेशा के लिए लुप्त हो गयी लेकिन लोगों के दिलों में वो आज भी जिन्दा हैं और समाज के लिए एक आदर्श पुरुष भी हैं। आइये आज हम बाबासाहेब के कुछ सुविचारों पर प्रकाश डालते हैं :-

1. We are Indians, firstly and lastly.

सबसे पहले और अंत तक हम एक भारतीय हैं

– Dr Br Ambedkar

2. The relationship between husband and wife should be one of closest friends.

पति और पत्नी में एक मित्रता का सम्बन्ध होना जरुरी है

– Dr Br Ambedkar

3. I like the religion that teaches liberty, equality and fraternity.

मैं उस धर्म को पसंद करता हूँ जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे की भावना सिखाता है

– Dr Br Ambedkar

4. Law and order are the medicine of the body politic and when the body politic gets sick, medicine must be administered.

कानून और व्यवस्था, राजनीति के शरीर की दवायें हैं और जब शरीर बीमार हो जाये तो तो दवाइयों को अपना काम करना चाहिए

– Dr Br Ambedkar

5. Unlike a drop of water which loses its identity when it joins the ocean, man does not lose his being in the society in which he lives. Man’s life is independent. He is born not for the development of the society alone, but for the development of his self.

जैसे पानी की बूंद समुद्र में मिलकर अपना अस्तित्व खो देती है, इसके विपरीत इंसान समाज में मिलकर अपना अस्तित्व नहीं खोता। इंसान का जीवन स्वतंत्र है वह समाज के विकास के लिए नहीं बल्कि अपने विकास के लिए पैदा हुआ है

– Dr Br Ambedkar

6. In Hinduism, conscience, reason and independent thinking have no scope for development.

हिंदू धर्म में, विवेक, कारण और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है

– Dr Br Ambedkar

7. A great man is different from an eminent one in that he is ready to be the servant of the society.

एक महान इंसान एक सुप्रसिद्ध इंसान से इसलिए बेहतर है क्योंकि वह समाज का सेवक बनने को हमेशा तैयार रहता है

– Dr Br Ambedkar

8. Life should be great rather than long.

जिंदगी लंबी नहीं बल्कि महान होनी चाहिए

– Dr Br Ambedkar

9. Cultivation of mind should be the ultimate aim of human existence.

बुद्धि का विकास ही मानव अस्तित्व का सबसे बड़ा लक्ष्य होना चाहिए

– Dr Br Ambedkar

10. Men are mortal. So are ideas. An idea needs propagation as much as a plant needs watering. Otherwise both will wither and die.

इंसान नश्वर है ठीक उसी तरह हमारे विचार भी नश्वर हैं। विचारों को प्रचार प्रसार की जरूरत होती है जैसे पौधे को पानी की, नहीं तो दोनों मुरझा जाते हैं

– Dr Br Ambedkar

11. I measure the progress of a community by the degree of progress which women have achieved.

मैं किसी समाज की उन्नति को महिलाओं की उन्नति से मापता हूँ

– Dr Br Ambedkar

12. Caste is not a physical object like a wall of bricks or a line of barbed wire which prevents the Hindus from co-mingling and which has, therefore, to be pulled down. Caste is a notion; it is a state of the mind.

जाति कोई ईंटों की दिवार नहीं है या कोई काँटों का तार नहीं है जो हिंदुओं को आपस में मिलने से रोक सके। जाति एक धारणा है जो मन की एक अवस्था है

– Dr Br Ambedkar

13. I solemnly assure you that I will not die as a Hindu.

मैं पूरी सत्यनिष्ठा से आपको विश्वास दिलाता हूँ कि मैं सिर्फ एक हिन्दू बनकर नहीं मरूँगा

– Dr Br Ambedkar

14. Generally speaking, the Smritikars never care to explain the why and the how of their dogmas.

सामान्यतः कोई स्मृतिकार कभी ये बात नहीं बताता कि आपके सिद्धांत क्यों हैं और कैसे हैं

– Dr Br Ambedkar

15. Religion and slavery are incompatible.

धर्म और गुलामी असंगत हैं

– Dr Br Ambedkar

16. Some people think that religion is not essential to society. I do not hold this view. I consider the foundation of religion to be essential to the life and practices of a society.

कुछ लोग सोचते हैं कि समाज के लिए धर्म की कोई आवश्यकता नहीं है। लेकिन मैं इस विचार को नहीं मानता। मानव जीवन के लिए धर्म की स्थापना होना बेहद जरुरी है

– Dr Br Ambedkar

17. They cannot make history who forget history

जो अपना इतिहास भूल जाते हैं वो कभी इतिहास नहीं बना सकते

– Dr Br Ambedkar

18. If I find the constitution being misused, I shall be the first to burn it.

अगर मुझे लगा कि संविधान का दुरूपयोग हो रहा है तो इसे सबसे पहले मैं ही जलाऊँगा

– Dr Br Ambedkar

19. So long as you do not achieve social liberty, whatever freedom is provided by the law is of no avail to you

जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता को नहीं हांसिल कर लेते, क़ानून द्वारा दी गयी हर स्वतंत्रता आपके लिए बेमानी ही रहेगी

– Dr Br Ambedkar

20. We must stand on our own feet and fight as best as we can for our rights. So carry on your agitation and organize your forces. Power and prestige will come to you through struggle

हमें अपने पैरों पर खड़े होना है। अपने अधिकार के लिए लड़ना है तो अपनी ताकत और बल को पहचानो क्योंकि शक्ति और प्रतिष्ठा संघर्ष से ही मिलती है

– Dr Br Ambedkar

दोस्तों बाबा साहेब के लिए समाज सुधारक विचार आपको कैसे लगे हमें कमेंट करके जरूर बतायें…

धन्यवाद!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

12 Comments

  1. thanks for sharing quotes of Dr. Ambedkar. And its very sad that after so many years still we don’t follow his teaching.

    – khayalrakhe.com

  2. nyc post sir ,,,
    requst h ki agli baar bhi aap baba saheb ke baare me post kren…
    and thanx sir….
    plz visit my site – aryatricks.in

  3. बाबा साहब बहुत महान व्यक्ति थे, और दलितों के मसीहा, दलितों के भगवान।मुझे विचार बहुत अच्छे लगे।धन्यवाद

  4. भारत में जाे मनुष्य निवास करता हें चाहे वाे किसी जाति ,धर्म,समुदाय,भाषा के हाे उनके मसीहा , गुरू , संहारक ,थे , इसी विचारधारा के आधार पर “उनकाे पूरा विश्व ग्यान का प्रतीक ” मानता हें

Close