महान गणितज्ञ रामानुजन की बचपन की एक कहानी | Ramanujan Success Story in Hindi

गणितज्ञ श्री रामानुजन की कहानी

Ramanujan Success Story in Hindi : जब भी हम किसी सफल(सक्सेस) व्यक्ति के बारे मे कभी पढ़ते हैं तो एक बात सभी में common मिलती है, कोई तो स्कूल ही नहीं गया और कोई गया तो फेल हो गया और आगे चलकर दुनियाँ में अपना नाम भी कर दिया |

कभी सोचा है कि जो लोग स्कूल में एग्ज़ाम पास नहीं कर पाते वो जीवन में कैसे सफल व्यक्ति बनते हैं| सबका एक ही उत्तर निकलता है:- लगन| उन लोगों को किसी एक चीज़ से ऐसी लगन हो जाती है कि उन्हें फिर दुनियाँ में और कुछ नहीं सूझता और अपनी उसी लगन और मेहनत के बल पर वो कुछ ऐसा कर जाते हैं जिसे दुनियाँ उन्हें कभी भुला नहीं सकती |

आज मैं ऐसी ही एक व्यक्ति के बारे में बताने जा रहा हूँ जिनका नाम था “रामानुजम” |

Ramanujan Mathematician Story in Hindi
 
रामानुजम सामान्य परिवार से थे और इसलिए इनकी प्रारंभिक शिक्षा भी बहुत ज़्यादा अच्छे से नहीं हुई| गणित विषय में इनकी इतनी रूचि थी कि इन्हें उसके अलावा कुछ समझ ही नहीं आता था.. नतीज़ा ये हुआ कि ये स्कूल में फेल हो गये और पढ़ाई छोड़ दी लेकिन कहा जाता है:- जुनून जब हद से गुजरता है, तो जन्म होता है रामानुजन जैसी शख्सियत का|

इन्होने हार नहीं मानी और दिन रात मेहनत करके नये नये मेथ्स के फार्मूले बनाए| इनके गणित के सूत्र इतने जटिल हैं कि गणित में ही नहीं ये आज कल बड़ी- बड़ी टेक्नालजी में भी use किए जाते हैं |

इनके जीवन की एक घटना है, एक बार जब मास्टर जी क्लास में भाग विधि पढ़ा रहे थे | मास्टर जी ने बोला – अगर 3 केले 3 बच्चों मे बाँट दिए जाए तो प्रत्येक पर कितने केले आएँगे?, एक छात्र ने उत्तर दिया 1 .. बिल्कुल सही, अब अगर 1000 केले 1000 बच्चों मे बाँटते हैं तो कितने आएँगे 1| तब मास्टर जी ने समझाया कि किसी भी संख्या को अगर उसी संख्या से विभाजित करेंगे तो सदा 1 ही उत्तर आयेगा|

क्लास में बैठे रामानुजन के दिमाग में कुछ बात आई और रामानुजाम जी ने अध्यापक से एक प्रश्न पूछा कि श्रीमान अगर 0 केले 0 बच्चों में बाँटते हैं तो भी सब पर 1 ही केला आएगा क्या?

मास्टर जी ने बताया कि बेटा 0 को 0 से विभाजित नहीं कर सकते और विभाजित करेंगे तो इसका उत्तर भी 0 ही आयेगा लेकिन रामानुजन ने कहा कि अभी आपने बताया कि किसी भी संख्या को अगर उसी संख्या से विभाजित करते हैं तो सदा 1 ही उत्तर आयेगा तो 0 को 0 से विभाजित करने से 0 क्यों आयेगा? पूरी क्लास उन्हें मूर्ख समझ कर हँसने लगी|

मास्टर जी भी गहरी सोच में डूब गए कि ऐसा तो उन्होंने कभी सोचा ही नहीं था और इस बच्चे का लोजिक भी बिल्कुल सही है| परन्तु उस समय उनके पास इस सवाल का कोई उत्तर नहीं था|

आपको जानकर हैरानी होगी कि रामानुजन अन्य विषयों में फेल हो जाया करते थे लेकिन गणित में सदा 100 में से 100 अंक लेकर आते थे| इस वजह से उनको एक ही क्लास कई बार पढनी पढ़ीं क्यूंकि अन्य विषयों में उनकी रूचि नहीं थी और गणित में उनके जैसा कोई दूसरा विद्वान् नहीं था|

रामानुजन ने बारहवीं में अनुत्तीर्ण होने के बाद पढाई को बीच में ही छोड़ दिया| इन्हें गणित के लिए कोई विशेष प्रशिक्षण नहीं मिला बल्कि इन्होने खुद से ही गणित के कई सूत्र प्रतिपादित किये| रामानुजन जी ने गणित विषय में कई नए आविष्कार किये और 3,884 प्रमेयों की रचना की|

रामानुजन ने ही गणित में Infinity का concept किया उन्होंने ही सिद्ध किया कि 0/0= infinite (अनंत) होता है| Infinity की खोज अपने आप में एक बहुत बड़ी खोज थी जिसकी वजह से गणित विषय में कई बड़े परिवर्तन आये|

रामानुजन के जीवन को आधार बनाकर अभी हाल ही में एक हॉलीवुड फिल्म भी बनाई गयी है जिसका नाम – “Ramanujan the man who knew infinity” था|

रामानुजन का जीवन भी आसान ना था बहुत ही कठिन परिस्थितियों से गुजरने के बाद भी इन्होने अपनी रिसर्च जारी रखी| गणित के प्रति इनके प्रेम ने इस विश्व को कई नए गणितीय सूत्रों से अवगत कराया|

ऐसे थे गणितज्ञ रामानुजाम, तो मित्रों लगन और मेहनत से इंसान कहीं भी पहुँच सकता है बस यही इस कहानी से सीख मिलती है |

इन कहानियों को बच्चों को जरुर पढ़ायें –
कठिनाइयों में छिपा होता है बड़ा सबक
आप जो भी हैं लेकिन कभी घमंड मत करिये
दुनिया के टॉप अमीर लोग जिनके पास कोई डिग्री नहीं है
जबतक जीवन है सुख दुःख चलता रहेगा

Related Articles

60 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close