मन को काबू कैसे करें How to Control Mind in Hindi

Mind को Control कैसे करें

मन क्या है – मन वह चेतना शक्ति है जिसे इंसान अगर अपने वश में कर ले तो यह इस आत्मा को परमात्मा से मिला देता है और जो इस मन को अपने काबू में नहीं कर पाता, उस व्यक्ति को ये मन जीवन भर नाच नचाता रहता है।

मन को नियंत्रित कैसे करें

महाभारत के युद्ध के दौरान जब अर्जुन ने युद्ध लड़ने से मना कर दिया तब श्री कृष्ण अर्जुन को समझाते हुए कहते हैं कि हे अर्जुन तुम किसलिए डरते हो ? तुम स्वयं परमात्मा का एक अंश हो। अपने भीतर झांक कर अपनी आत्मा को देखो फिर तुम्हें आत्मा में उस परमात्मा का रूप दिखाई पड़ेगा।

तब अर्जुन कहते हैं कि हे प्रभु आप तो कहते हैं कि इस शरीर में आत्मा का वास है और अब आप कह रहे हैं कि आत्मा को देखो? आखिर इस आत्मा को देखेगा कौन? क्या कोई और भी शक्ति है इस शरीर में जो आत्मा देखेगी ?

श्री कृष्णा – हाँ, मन ! ये मन बहुत शक्तिशाली है। अर्जुन मन के बारे में विस्तार से समझाने के लिए मैं तुमको एक कथा सुनाता हूँ –

“सोचो कि शरीर एक रथ है। इस रथ में पाँच घोड़े हैं जो रथ को चलाते हैं ये पांच घोड़े ही हमारी पांच इंद्रियां हैं। इस रथ का सारथी है – “मन” और इस सारथी के हाथ में ही पांचों घोड़ों की लगाम है।

ये जिधर चाहे उधर इन घोड़ो को ले जा सकता है। इस रथ का स्वामी एक राजा है जो रथ के सिंघासन पर बैठा रहता है। ये राजा ही हमारी आत्मा है जो इस पूरे रथ रूपी शरीर का मालिक है।

ये मन बहुत चंचल है, ये व्यसन, भोग विलास और वासना की तरफ आकर्षित होता है। इस मन रूपी सारथि को जहाँ आनंद की डगर दिखती है, ये वहीँ पांचों घोड़ों को ले जाता है। ये मन रूपी रथ का सारथि हमारी इन्द्रियों से जो चाहे वो करवाता है और जिधर चाहे उधर ले जाता है।

Man Kya Hai

हमारे इस शरीर की जो अंतरात्मा है वो रथ का राजा है. अगर राजा शक्तिशाली है तो वह रथ के सारथि को कुछ भी गलत करने से रोक सकता है। ये राजा पूरे रथ का मालिक है। ये जो भी आज्ञा देगा वो इस सारथि को माननी होगी।

लेकिन दुर्भाग्यवश इस मन को काबू करना इतना आसान नहीं है। इसके लिए आत्मा यानि राजा को हमेशा इस पर नजर रखनी होगी। अगर आत्मा मन पर काबू पा ले तो ये मन फिर आत्मा का ही कहना मानता है। ”

हे अर्जुन, ये मन इतना शक्तिशाली है अगर इसे इंसान ने काबू नहीं किया तो ये जीवन पर्यन्त तुमको भटकाता रहेगा और अगर इंसान ने मन को काबू में कर लिया तो यही मन आत्मा को परमात्मा तक लेके जाता है, इतना बलशाली है ये मन!!

हे अर्जुन! इस मन की ताकत का तुमको तनिक भी अंदाजा नहीं है जो इंसान इस मन की शक्ति को समझ लेता है और उसे काबू में कर लेता है वो इंसान साक्षात् देवपुरुष बन जाता है।

अर्जुन – हे कृष्ण! ये मन इतना बलशाली है तो इसे वश में करने के क्या उपाय हैं ? कैसे इस मन रूपी सारथि को काबू में किया जाये ?

श्री कृष्ण – अर्जुन इस मन पर काबू पाने के दो रास्ते हैं –

पहला – अनुभव

दूसरा – वैराग्य

ये मन बड़ा चंचल है। जब भी ये गलत दिशा में जाये इसे रोको, अपने मन को वापस सही रास्ते पर लाओ। ये फिर भागेगा, तुम फिर इसे पकड़ कर लाओ। ये भागता रहेगा लेकिन तुम हर बार इसे पकड़ कर लाते रहो।

जिस प्रकार किसी घोड़े को काबू में करने के लिए इंसान को कई प्रयत्न करने होते हैं। नया घोड़ा सवार को अपने ऊपर बैठने नहीं देता और घुड़सवार को बार बार नीचे गिरा देता है लेकिन अगर घुड़सवार दृढ़निश्चयी है तो वो बार बार गिरता है और फिर से घोड़े को काबू करने की कोशिश करता है और अंत में वो घोड़े पर काबू पाने में सफल हो जाता है और फिर यही घोडा उस घुड़सवार को उसकी मंजिल तक ले जाता है। ठीक उसी तरह तुमको भी बार बार प्रयास करने होंगे तब कहीं जाकर ये मन वश में होगा। ये प्रक्रिया बहुत कठिन है लेकिन लगातार प्रयास करने से एक दिन ऐसा आयेगा जब ये मन सिर्फ तुम्हारे कहने पर ही चलेगा और तुम इसके सच्चे स्वामी बन जाओगे।

दूसरा तरीका है – वैराग्य अर्थात जो बुरा है उसे समझो और अपने मन को समझाओ कि ये बुरा है। बुरी संगति और बुरी आदतों को छोड़ते चलो और अच्छे विचारों को अपनाओ। वैरागी हो जाओ, जो व्यसन हैं इनकी तरफ कभी ध्यान मत दो। मन में गलत विचार आते ही उनसे दूर हो जाओ, अच्छे विषय की बातें सोचो| इस तरह तुम अपने मन को काबू में कर पाओगे।

हे अर्जुन! याद रहे,,ये मन इतना शक्तिशाली है कि अगर इसको वश में कर लिया तो ये तुम्हारा हाथ पकड़ कर परमधाम तक ले जाता है और अगर वश में ना किया तो ये तुम्हें ना इस लोक का छोड़ेगा और ना उस लोक का….

मित्रों श्री कृष्ण ने रथ के उदाहरण के माध्यम से अर्जुन को मन के बारे में विस्तार से समझाया और हमें पूरी उम्मीद है कि आपको भी बहुत कुछ सीखने को मिला होगा।

कुछ तो कहिये – दोस्तों अब बारी है आपकी! जी हाँ ये लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइये। नीचे कॉमेंट बॉक्स में जायें और अपनी बात हमें लिख भेजें। धन्यवाद!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

50 Comments

  1. बहुत ही बढ़िया article है ….. ऐसे ही लिखते रहिये और मार्गदर्शन करते रहिये ….. शेयर करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। 🙂 🙂

  2. Mind par control karna thoda kathin he lekin naamumkin nahi he ydi hum thoda prytn kare to use jarur humare kabume kar shakte he or aek baar man par kaabu kar lene ke baad hum usse jo chahe vah karva shakate he.
    Ha lekin aisa nahi he ki aekbaar humne apne man ko kaabu me kar liya fir vah jivan bhar humare basme rahega,man bhut hi chanchal he vah vapas buraiyo ki aur bhagega us vqt hume vaapas use control karne ke liye pryt karne honge
    Jis prkar bagiche se aekbaar ghaspush nikalne ke baad vah vaapas nikal aate he or hume bagiche ki safai continue rakhni padti he,vah niyam humare man par bhi lagu hota he
    Mind control ki baat bhagwan shree krishna ne mahabharat me bahut hi saral tarikese or vistar se samajai he

  3. bahut achha hai sir thanks bahut koshis ki par har baar nakam raha par is baar is nakami ko jarur haar milegi thanks for this aur hume is tarah ke lekh bhejte rahe

  4. Musku yee kahani somoj aie isku rupaet kese koru mera mon hampe habi he …me janti hu golot …dusuraku samgatihu golt …porantu khud usiku kot beth ta hu kus upai sahiye ……nahito mera jiban narok bonta ja rohahe…sahayug ki kamnase ham ynntejar me….

  5. mahabharat aur geeta do no anmol hai ek or maryada aur sachhai ki jeet hai to wahi aadmi ko uttam charitra ke sath jine ki kala hai geeta ke ek ek adhyay ka apna mahtav hai yanha krishna rup jiwan krishnamayi ho jata hai wahi mahbharat me krishna satya aur astha ki jeet me swayam manv sewa ke liye manv ke sath kadhe hai

  6. Bahut aachi kahani hai maan ko control me karne ka main aaj se seree krisna ji ke dono rule ko follow karuga. Thanks you

  7. Bahut aachi kahani hai maan ko control me karne ka main aaj se seree krisna ji ke dono rule ko follow karuga. Thanks you

  8. Dear sir , I am request you to please remove all advertisement because when am I read useful story my mind is not concentrate, I know it is not impossible to remove all advertisement but remove bad advertisement, please,

  9. This is a very beautiful and helpful story for all of us.it is very useful to every person.if we will do it in right way we get maximum success.Thank you and thanks a lot for sharing such a beautiful motivational stories.

  10. Bilkul sahi ismay Jara bhi sandeh nahi, very nice,Dosto achaiyo say jurey raho magar sachey man sey, kisi ko dikhaney ke liye nahi, jeet nishchit hogi.

  11. har har mahadev
    yeh baatein kewal hindu dharm mein hi padne aur seekhne ko mil sakti hain isky alawa duniya ke kisi b dharm mein nhi hainnnnn………………..
    instead sanaatan dharm hi sabsy pracheen aur sabhi dharmo ka mool hai…….
    rochak gyan ka samudra hai hindu dharm jo is sansaar se taarne ka kewal ek maatra saadhan hai manushya ko………..
    sir aisi aur jaankaari avashya post karte rahiye……..strongly spiritual……jai shree krishna……..

  12. I AM WARD LESS ITS VERY VERY TRRUE EXPIRENCE AND WAIRAGAYA TWO PRATS IN LIFE [ HUME HMESHA ACCHE KAM KARTE RAHANA CHAIYE BURI ADAT SE MUMESHA DUR RAHANA HAI]

  13. Thank u so much frnds..mujhe ye adhik se adhik acha laga n main bhi aaj se apne man ko apne kabu krne k liye koshish karunga!

  14. Hi! Friends my name md juber
    From India Bihar Katihar se hoo Mai Saudi Mai rahta hoo
    Aachi soch par har roj kahaniya parta hoo aur sath hi Amal karta hoo aapni jiwan Mai utarta aur Mai saphal hua hoo ?
    Dhanyavad dosto.

  15. बहोत अच्छा लगा काफी कुछ सिखने मिल धन्यवाद

Close