कैसे छोड़ें बुरी आदतें Bad Habits in Hindi

Get Rid of Bad Habits in Hindi

एक बार की बात है, किसी दूर गाँव में एक किसान रहता था जिसका एक बेटा था। यूँ तो वह बहुत धनी था लेकिन किसान अपने बेटे की कुछ गन्दी आदतों से बहुत परेशान था, बहुत प्रयासों के बाद भी उसका बेटा बुरी आदतों को छोड़ने को तैयार नहीं था। धनी किसान बेटे को एक ऋषि के पास ले गया और ऋषि को सारी बात बताई।

ऋषि ने किसान को विश्वास दिलाया कि वह उसके बेटे की सारी गन्दी आदतें छुड़ा देंगे। ऋषि बेटे को लेकर एक जंगल में गए वहाँ बहुत सारे पेड़ पौधे थे।

ऋषि ने बच्चे से कहा जाओ एक छोटा नन्हाँ पौधा तोड़ के लाओ। बच्चा गया और बड़ी आसानी से एक छोटा पौधा तोड़ लाया। फिर ऋषि ने कहा- शाबाश, अब एक थोड़ा बड़ा पौधा उखाड़ कर लाओ।

लड़का गया और एक बड़ा पौधा उखाड़ने की कोशिश करने लगा, उसने पूरी ताकत लगायी और पौधा जड़ सहित उखड़कर हाथ में आ गया। ऋषि ने कहा- ठीक है, अब ये एक अमरुद का पेड़ उखाड़ के दिखाओ।

लड़का ख़ुशी ख़ुशी भाग के गया और फिर पूरी ताकत से पेड़ उखाड़ने में लग गया, लेकिन ये क्या पेड़ हिला तक नहीं, बच्चे ने फिर से पूरी ताकत लगायी लेकिन फिर असफल, कई बार प्रयास करके वो थक गया और ऋषि से बोला- इसको उखाड़ना तो असंभव है ।

अब ऋषि ने बच्चे को समझाया- ये पौधा, तुम्हारी बुरी आदतों की ही तरह है। जब पौधा छोटा था तो कितनी आसानी से तुमने इसे उखाड़ फेंका लेकिन थोड़े बड़े पौधे को उखाड़ने में कितनी मुश्किल हुई और जब एक बड़े पेड़ को उखाड़ने की कोशिश की तो असंभव हो गया।

इसी तरह बुरी आदतों को अगर शुरुआत में ना छोड़ो तो फिर आगे चल कर ये बड़े पेड़ का रूप ले लेतीं हैं और उनको फिर छोड़ना असंभव हो जाता है। बच्चे को बात समझ में आ गयी और उसने उसी दिन से अपनी सभी गन्दी आदतों को छोड़ने का फैसला ले लिया|

मित्रों अक्सर समाज में देखा जाता है कि बहुत सारे लोगों में बुरी आदतें होती हैं- जैसे धूम्रपान(Smoking), नशा, गुस्सा, स्वार्थ, घमंड, चोरी आदि और काफी लोग इन गन्दी आदतों से छुटकारा भी पाना चाहते हैं लेकिन वो चाहकर भी नहीं छोड़ पाते क्यूंकि उनकी ये अादतें पेड़ का रूप ले चुकीं हैं जिनको उखाड़ना अब असंभव सा प्रतीत होता है। तो दोस्तों, बुरी आदतों को पेड़ ना बनने दें जल्द ही उन्हें उखाड़ फेंकें यही इस कहानी की शिक्षा है|

पिछले 4 सालों से हिंदीसोच आपको लगातार आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता आया है| इन लेखों में इतनी ताकत है कि इनको पढ़कर आपकी जिंदगी बदल सकती है और यकीनन कई लोग ऐसा कर भी चुके हैं| हिंदीसोच के सभी लेख अपने ईमेल पर प्राप्त करने के लिए आप हमें सब्सक्राइब कर लीजिये…. सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें..

ये कहानियां आपको प्रेरणा देंगी –
भगवान उन्हीं लोगों की मदद करते हैं जो स्वयं की मदद करते हैं
कठिनाइयों में छिपा होता है बड़ा सबक
10 अरबपति जो पहले बहुत गरीब थे
आप जो भी हैं लेकिन कभी घमंड मत करिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

14 Comments

  1. this is very educatabel story by which every person should learn and implement on themselves to get happy life

  2. Bahut acchi kahani hai……hame apni buri aadaton ko pehchan kar unhe turant tyag dena chaiye warna wo itni gehri ho jayengi ki lakh koshiso ke baad bhi nahi tyagi ja sakengi…….is acchi kahani ke liye aapko dhanyabaad !!!
    from–
    aapkisafalta

  3. Mujhe apki ye soch pahut psand aai.. or mai b apni buri aadato ko jald se jald ukhad fekungi… use per banne ka mauka bilkul nhi dungi… i try… and thank u so much.. hindisoch.com aap ki sbhi kahaniya hme kuch na kuch sikha hi jati hai… life me kuch krne ki ummid, nya hausala de jati hai.. one’s again Thank u so much…..

  4. life se rileted khani hai ma us khani ko pdhne ke hme bhut posetiv cho hoti hai itna thanks aa welcome khu kam pd jaye ga welcome sir nice khani

  5. Very very good.इस कहानी को अपना कर मैं मेरी एक बहोत बुरी आदत जड से उखाड फेकुँगा. good story

  6. Aaj ka yuva varg anek buri aadato se jakade hue hai jaise sharab pina, ladakiyon ko cherana, samaj ke varistho ko samman na dena or bhi anek buri aadat he jinhe chorna atyant avashyak he.

Close