सफलता के लिए पहले अपने Skill को Improve करिये

Success Quotes

सफलता के लिए पहले अपने Skill को Improve करिये

एक बार की बात है दो घनिष्ठ मित्र थे, राम और श्याम. दोनो एक व्यापारी के यहाँ लकड़ी काटने का काम करते थे. दोनों दिन भर मेहनत करते और लकड़ी काटते थे.

राम हमेशा श्याम से अधिक लकड़ी कटा करता और उसकी तनख़्वा की श्याम से ज़्यादा थी.

ये बात श्याम को बहुत परेशान करती थी कि मैं भी दिन भर मेहनत करता हूँ फिर भी कम लकड़ी काट पता हूँ और तनख़्वा भी कम है.

एक दिन श्याम से रहा नहीं गया आख़िर उसने व्यापारी से पूछ ही लिया की राम में ऐसी क्या बात है की आप उसको मुझसे ज़्यादा मेहनताना देते हो और मुझसे ज़्यादा विश्वास भी करते हो?

व्यापारी ने हँस कर जवाब दिया कि मैं देखता हूँ की तुम रोज सुबह आते हो लकड़ी काटने मे लग जाते हो और शाम तक कुछ लकड़ियाँ काट कर वापस चले जाते हो फिर अगले दिन वही करते हो.

लेकिन राम सुबह आकर सबसे पहले अपना लकड़ी काटने का चाकू पैना करता है फिर सारा दिन वो बिना ज़्यादा मेहनत किए तुमसे ज़्यादा लकड़ी काट लेता है यही अंतर है तुम दोनो में और मे इसीलिए राम को ज़्यादा पैसा भी देता हूँ|

तो मित्रों, Hard Working का जमाना गया ध्यान दीजिए Smart Work पे.

सबसे पहले अपने Skill को Improve करिए और अपने माइंड को develop करिए उसके बाद जब आप किसी काम को अंजाम देंगे तो वो Really क़ाबिले तारीफ होगा.

ये भी पढ़ें :-
ऐसे करें समस्या का निवारण
सकारात्मक सोच का जादू
धूर्त मेंढक, जैसी करनी वैसी भरनी
अपनी विफलताओं से सीखो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

7 Comments

  1. भगवान परमात्मा के सामने लोग सुबह सुबह और शुद्ध घी का दिया क्यो जलाते है ? सब कर्म करने के पीछे कारण ब्रह्म है और यही धर्म है। पर भगवान के सामने दिया ही जलाने का कारण है क्योकि उसकी ज्योत सदा उपर की ओर ही उठती है उसे ही ऊर्ध्व गति कहते है। वैसेही हम सुबह सुबह शुद्ध प्राणो से कर्म करते हैतो हमारे कर्म से धर्म होता है और प्राणो के लिए कर्म करे तो हमारी गति भी ऊर्ध्व ही होती है। पर हम कर्म करते जड शरीर और इस शरीर में बसते मन इन्द्ररियां बुद्धि चित्त वृत्ति ओ के लिएही जो आखिर में मट्टी मिलते है क्योंकि नाशवंत है पर जब हम शाश्वत परमात्मा के लिए कुछ करना चाहते है तो सिर्फ भगवान सामने दिया ही न जलाये उसके साथ साथ अपने शुद्ध प्राणों से कर्म करके धर्म भी करे जो ब्रह्म का अनुभव करवाये जो हम स्वयं है अहंब्रह्मास्मि।

  2. जीवन जीने की कला को सिखाने के लिए Hindisoch.Com को मैं बहुत बहुत बधाई देता हुँ। आशा करता हुँ कि आपके prerna से सबका जीवन सुखी होगा।

  3. बहुत अच्छा पोस्ट शेयर किया आपने, आपका धन्यवाद।

Close