Usain Bolt Biography in Hindi उसैन बोल्ट का जीवन परिचय

सबसे तेज धावक उसैन बोल्ट का जीवन परिचय

Usain Bolt Biography in Hindi

हेलो दोस्तों मेरा नाम Ram Bharat Singh है मैं www.tophindistory.org पर मोटिवेशनल आर्टिकल और हिंदी बायोग्राफी लिखता हूं, Pawan sir को मैं थैंक्स बोलना चाहूंगा जो उन्होंने मुझे अपने ब्लॉग पर गेस्ट पोस्ट करने का मौका दिया so थैंक यू पवन सर

आज मैं जिस इंसान की बात कर रहा हूं उसने सफलता ऐसे झंडे गाड़े कि दुनिया देखती रह गई उन्होंने दुनिया को बताया कि कोई इंसान चीते की रफ्तार से भी दौड़ सकता है | जी हां दोस्तों में बात मैं बात कर रहा हूं एथलेटिक्स sprinter King Usain Bolt की… Usain Bolt एकमात्र ऐसे इंसान हैं जिन्होंने खुद के रिकॉर्ड को कई बार तोड़कर इतिहास को दोहराया है| Usain Bolt 100 metre 200 metre के दुनिया में सबसे तेज धावक हैं|

Usain Bolt in Hindi

Usain Bolt एकमात्र ऐसी athlete है जो कार्ल लुइस के बाद 2008 में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में 3 दौड़ स्पर्धाओं में gold लेने और वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने में कामयाब रहे थे|

तो चलिए दोस्तों जानते हैं ऐसे इंसान के बारे में जिन्हें एथलेटिक्स का किंग माना जाता है|

Usain Bolt Biography in Hindi (उसैन बोल्ट के जीवन के बारे में)

व्यक्तिगत जानकारी

राष्ट्रीयता – Jamaican
जन्मतिथि – 21 अगस्त 1986
लंबाई – 1.9m.
वजन – 93 kg

प्रारंभिक जीवन

Usain st. Leo bolt का जन्म 21 अगस्त 1986 को जमैका के एक छोटे से सहर Traloni में हुआ था | उनके माता जेनिफर और पिता का नाम Wellesley bolt है| Usain Bolt ने अपना बचपन शेरवुड कंटेंट नाम की छोटे से गांव की गलियों में फुटबॉल और क्रिकेट खेलते हुए बिताया था उन्हें फुटबॉल और क्रिकेट में इतनी दिलचस्पी थी कि वह खेलते समय खो जाया करते थे|

एक इंटरव्यू में उसैन बोल्ट ने यह भी कहा था कि मैं बचपन में खेल के अलावा कुछ और नहीं सोच सकता था इसी रुचि और खेल के प्रति प्यार ने उन्हें स्पोर्ट्स की दुनिया का बादशाह बना दिया|

Schooling और स्पोर्ट्स के प्रति रुझान

Usain bolt एकमात्र ऐसे धावक हैं जो कार्ल लुइस इसके बाद 2008 में कई सारे वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ने में कामयाब रहे| अब यह बात तो आप सभी को पता चल गई होगी उसैन बोल्ट गजब के एथलीट हैं लेकिन हर चीज की एक शुरुआत होती है वह शुरुआत कहां से हुई जो bolt इतने बड़े एथलीट बन गए आइए जानते हैं-

उनकी प्रारंभिक शिक्षा वेल्डनसिया प्राथमिक स्कूल से हुई, यहीं उन्होंने पहली बार 12 साल की उम्र में दौड़ कर ट्रैक एंड फील्ड के लिए अपनी पहली संभावना जाहिर की थी|

12 साल की उम्र तक बोल्ट अपने स्कूल में सबसे तेज धावक बन गए थे, आगे की पढ़ाई के लिए बोर्ड में विलियम निब मेमोरियल हाई स्कूल में प्रवेश लिया| इस दौरान बोल्ट का ध्यान रनिंग से हटकर क्रिकेट पर चला गया लेकिन स्कूल के कोच ने उनकी तेजी को देखते हुए उन्हें ट्रैक एंड फील्ड की तरफ ध्यान देने की सलाह दी, इसी बीच बोल्ट ने अपनी क्षमताओं में सुधार करते हुए 2001 में वार्षिक उच्च प्रतियोगिता में 200m. में 22.4 सेकंड का समय देते हुए रजत पदक जीता|

इसी दौरान 100m. Olympic Athlete पाब्लो मैकलिन बोल्ट के प्राथमिक कोच बन गए लेकिन बोल्ट के मजाकिया स्वभाव और खेल के प्रति समर्पण की कमी को लेकर मैकलीन कई बार उदास हो जाया करते थे|

Starting Career ( शुरुआती सफर )

शुरुआत समय में बोल्ट ने crifta खेलों में 400 मीटर दौड़ में भाग लेकर फाइनल तक सफर तय किया लेकिन वह मेडल लेने में असमर्थ रहे क्योंकि वह अपने खेलों की प्रति गंभीर नहीं थे शायद इसीलिए वह मेडल से चूक गए|

2001 के IAAF world youth championship के दौरान बोल्ट ने 200 मीटर फाइनल के लिए तैयार होने के दौरान गलत एक्टिविटी की, जिसके लिए बोल्ट को पुलिस ने हिरासत में ले लिया लेकिन बाद में छोड़ दिया गया|

अभी एक बार फिर से crifta खेलों में शामिल बोल्ट ने 200 मीटर और 400 मीटर स्पर्धा में 21.12 और 47.33 सेकेंड का समय देकर सभी को चौंका दिया और न्यू रिकॉर्ड बना दिया अब यह सिलसिला यहीं नहीं रुकने वाला था उन्होंने फिर से सेंट्रल अमेरिकन और कैरेबियन जूनियर चैंपियनशिप में 200 मीटर में 20.61 और 400 मीटर में 47.12 सेकेंड का समय देकर फिर से रिकॉर्ड बनाया|

यह वह समय था जब PG पैटरसन वहां के प्रधानमंत्री थे और उन्होंने बोल्ट को देखा और वह बोल्ट से काफी प्रभावित हुए और उन्होंने बोल्ट की क्रिस्टन में जाने की व्यवस्था की ताकि बोल्ट की ट्रेनिंग की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता ना हो और वह अच्छा प्रशिक्षण प्राप्त कर सकें|

प्रोफेशनल एथलेटिक्स करियर

बोल्ट ने फैसला कर लिया था कि पूरी तरह से एथलेटिक्स में पेशेवर होने का 2002 में जमैका की किंग्स्टन शहर में विश्व जूनियर चैंपियनशिप में 200 मीटर में बोल्ट ने 20.17 सेकेंड का समय निकालकर उस समय तक का सबसे बेहतर प्रदर्शन किया|

यहीं पर मेडल जीतने का सिलसिला कहां थमने वाला था क्योंकि अभी तो शुरुआत हुई थी बोल्ट ने इन्हीं गेम्स में जमैकन रिले टीम 4×100 m. में 3:04.06 समय निकालकर जमैकन टीम ने नया जूनियर राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया और बोल्ट को 200 मीटर में मिली जीत ने उन्हें विश्व जूनियर चैंपियनशिप का अब तक का सबसे कम उम्र का धावक बना दिया|

मुश्किल समय( Struggle Time )-

एक समय ऐसा भी आया जब बोल्ट के जीवन में उनकी लोकप्रियता उनके लिए परेशानी का विषय बनने लगी थी| अब बोल्ट का ध्यान अपने एथलेटिक्स करियर से हटने लगा था और वह मनचाहे फास्ट फूड और पार्टियों को वरीयता देने लगे थे इसी बीच उनका प्रदर्शन काफी प्रभावित हुआ|

और वह पहला ओलंपिक 2004 में 200 मीटर की रेस को बुरी तरह से हार गए और काफी depress भी हो गए तभी उन्हें समझ आ गया था कि बिना हार्ड वर्क किए बिना वह नहीं जीत सकते वह अपनी प्राकृतिक क्षमताओं पर निर्भर नहीं रह सकते|

Athletics Career Golden Time ( बेहतर समय)-

बोल्ट 2004 का ओलंपिक हारने के बाद वह फिर से खुद को बेहतर करने में जुट गए|

एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि अगर आप कुछ बेहतर करना चाहते हैं तो आपको हारने को महत्व देना चाहिए क्योंकि यही वह समय होता है जो आपको आगे कुछ अच्छा करने के लिए प्रेरित करता है|

2004 के बाद उसैन बोल्ट के परफॉर्मेंस में काफी सुधार देखने को मिला और इसके बाद तो जैसे गोल्ड मेडल की बोल्ट ने लाइन ही लगा दी उन्होंने कई वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए और कुछ रिकॉर्ड तो उन्होंने फिर से दोहराया|

प्रमुख उपलब्धियां ( Achievements )-

अगर शुरुआत से देखा जाए तो बोल्ट ने बहुत सारे मेडल जीते हैं लेकिन हम यहां बात कर रहे हैं कुछ प्रमुख अचीवमेंट्स की जिन्होंने बोल्ट को दुनिया की नजर में एथलेटिक्स सुपरस्टार बनाया| अगर आप सभी मेडल लिस्ट देखना चाहते हैं तो अब Wikipedia पर भी जा सकते है-

Olympic Games –

2008 (Beijing) – 100m. Gold
2008 (Beijing) – 200m. Gold
2008 (Beijing) – 4×100m. Realy gold

World Championship –

2009 berlin – 100m. Gold
2009 berlin – 200m. Gold
2009 berlin – 4×100m.relay gold
2007 Osaka – 200m. Silver
2007 Osaka – 4×100m. Realy silver

World Junior Championship –

2002 Kingston – 200m. Gold
2002 Kingston – 4×100m. Realy silver
2002 Kingston – Kingston 4×400m. Realy silver

World youth Championship-

2003 Sherbrooke – 200m gold

World Athletics Final –

2009 Thessaloniki – 200m. Gold

दोस्तों यह थी Usain Bolt biography in Hindi, अगर आपका कोई सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर भेजें और अगर आपको ऐसा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूलें

मित्रों यह उसैन बोल्ट के जीवन की कहानी हमें रामभरत सिंह जी ने भेजी है, उसैन बोल्ट के जीवन को बारीकी से दर्शाने के लिए रामभरत जी का धन्यवाद| रामभरत जी की वेबसाइट http://www.tophindistory.org/ पर आप और भी इसी तरह की कहानियां पढ़ सकते हैं| धन्यवाद!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

9 Comments

Close