Mirza Ghalib Shayari in Hindi ~ मिर्ज़ा ग़ालिब हिंदी उर्दू शायरी

मियां मिर्जा ग़ालिब शायरी

Beautiful Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Beautiful Mirza Ghalib Shayari in Hindi
रोने से और इश्क़ में बे-बाक हो गए,
धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए.

 

Mirza Ghalib Heart Touching Shayari in Hindi
Mirza Ghalib Heart Touching Shayari in Hindi
हमें पता है.तुम. कहीं और के मुसाफिर हो,
हमारा शहर तो.. बस यूँ ही. रास्ते में आया था.

 

Mirza Ghalib Shayari in Hindi for Love
Mirza Ghalib Shayari in Hindi for Love
हम तो फ़ना हो गए उनकी आंखे देखकर ग़ालिब,
ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे.

 

Romantic Ghalib Shayari
Romantic Ghalib Shayari
तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे

 

Sad Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Sad Mirza Ghalib Shayari in Hindi
आह को चाहिए इक उम्र असर होने तक,
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक.

 

Hindi Ghalib Shayari

दिल-इ-नादान तुझे हुआ क्या है,
आखिर इस दर्द की दवा क्या है.

 

Mirza Ghalib Shayari

मोहब्बत का शील शीला यूँ ही चलता रहेगा,
जिसे दर्द मिला वो सहता रहेगा.

 

Mirza Ghalib Shayari in Hindi

कितना खौफ होता है शाम के अँधेरे में,
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते.

 

Ghalib Shayari in Hindi

मोहब्बत में नहीं है फर्क जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले.

 

Ghalib Shayari on Love in Hindi

पहले आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी,
अब किसी बात पर नहीं आती.

 

Ghalib Shayari on Love

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो,
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो.

 

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

चंद तस्वीर-ऐ-बुताँ , चंद हसीनों के खतूत,
बाद मरने के मेरे घर से यह सामान निकला.

 

Galib Ki Shayari in Hindi

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता,
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता.

 

Mirza Ghalib Shayari in Hindi

हमने मोहब्बत के नशे में आ कर उसे खुदा बना डाला,
होश तब आया जब उस ने कहा के ख़ुदा किसी एक का नहीं होता.

 

Ghalib Ki Shayari in Hindi

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता.

 

Ghalib Ki Shayari

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।

 

Ghalib Sher o Shayari

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब,
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी.

 

Ghalib Shayari Collection

चंद तस्वीर-ऐ-बुताँ, चंद हसीनों के खतूत,
बाद मरने के मेरे घर से यह सामान निकला.

 

Ghalib Sher in Hindi

दूसरी बार भी होती तो तुम्ही से होती
,
में जो बिलफ़र्ज़ मुहब्बत को दोबारा करता.

 

Best Shayari of Mirza Ghalib in Hindi

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल के ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है.

 

Mirza Ghalib Sad Shayari in Hindi

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन

 

Ghalib Shayari on Love in Hindi

छोड़ा न रश्क ने कि तिरे घर का नाम लूँ,
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊँ किधर को मैं.

 

Ghalib Sad Shayari

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है.

 

Shayari of Ghalib on Ishq

क़ासिद* के आते आते ख़त इक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में.

 

Ghalib Shayari on Life in Hindi

ये महरूमी नहीं ख़ामी ऐ तजली है,
निगाहो में सदाक़त हो तो पर्दा आप उठ जाता है.

 

Mirza Ghalib Love Shayari

आया है बे-कसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद.

 

Mirza Ghalib Shayari in Urdu

बाजीचा-ऐ-अतफाल है दुनिया मेरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे

 

Mirza Ghalib Sad Shayari

आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग.

 

Mirza Ghalib Ki Shayari

तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब,
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे.

 

Ghalib Shayari on Love in Hindi

ज़रा कर जोर सीने पर की तीर -ऐ-पुरसितम् निकले जो
वो निकले तो दिल निकले , जो दिल निकले तो दम निकले

 

Ghalib Shayari in Hindi on Love

दाइम पड़ा हुआ तिरे दर पर नहीं हूँ मैं
ख़ाक ऐसी ज़िंदगी पे कि पत्थर नहीं हूँ मैं

 

Mirza Ghalib Ki Shayari in Hindi

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब,
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है.

 

Mirza Ghalib Sher in Hindi

उनके देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है.

 

Mirza Ghalib Shayari Collection in Hindi

पिला दे ओक से साक़ी जो मुझ से नफ़रत है,
पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे.

 

Mirza Ghalib 2 Line Shayari in Hindi

बाजीचा-ऐ-अतफाल है दुनिया मेरे आगे,
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे.

 

Ghalib Romantic Shayari

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे.

 

Ghalib Best Shayari

तेरी वफ़ा से क्या हो तलाफी की दहर में,
तेरे सिवा भी हम पे बहुत से सितम हुए।

 

Ghalib Ke Sher in Hindi

ज़िंदगी में तो वो महफ़िल से उठा देते थे
देखूँ अब मर गए पर कौन उठाता है मुझे

 

Ghalib Mirza Shayari

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

 

Mirza Ghalib 2 Line Shayari

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और.

 

Mirza Ghalib Romantic Shayari in Hindi

लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है

 

Mirza Ghalib Love Shayari in Hindi

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी.

 

Mirza Ghalib Shayari on Life in Hindi

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी.

 

Ghalib Sad Shayari Two Lines

फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
दिल -ऐ -ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया
कोई वीरानी सी वीरानी है .
दश्त को देख के घर याद आया

 

Mirza Ghalib Romantic Shayari

वादे पे वो ऐतबार नहीं करते,
हम जिक्र मोहब्बत सरे बाजार नहीं करते,
डरता है दिल उनकी रुसवाई से,
और वो सोचते हैं हम उनसे प्यार नहीं करते.

 

Shayari of Mirza Ghalib

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है

 

Shayari of Mirza Ghalib

इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है,
निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है,
तेरे बिना जिन्दगी में कोई कमी तो नही,
फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button