Top 12 Facts about Earthquakes in Hindi धरती को हिला देने वाले भूकम्प के बारे में चौंकाने वाली जानकारियां

Top 12 Facts about Earthquakes in Hindi

1. ज्वालामुखी फटने, या उल्का पिंडों के प्रभावों से भी भूकम्प आते हैं लेकिन ज्यादातर भूकम्प धरती के नीचे की प्लेट खिसकने से आता है

2. वैसे धरती की प्लेट्स एक स्थान से दूसरे स्थान पर हमेशा खिसकती रहती हैं लेकिन कई बार जब प्लेट्स पर दवाब बढ़ जाता है तो प्लेट्स टूट जाती हैं और भूकम्प आ जाता है

3. हर साल भूकम्प आने से करीब 8000 लोगों की मौत हो जाती है, और पिछले 4000 सालों में अब तक करीब डेढ़ करोड़ लोगों की मौत हो चुकी है

4. 2004 में, हिन्द महासागर में आये भूकम्प में इतनी ज्यादा एनर्जी निकली थी कि उससे अमेरिका के सारे घर और फैक्ट्रियों को 3 साल तक बिजली दी जा सकती थी

5. 1771 में, भूकम्प के कारण जापान में सबसे खतरनाक सुनामी आई थी, इस सुनामी की लहरें गगनचुम्बी 278 फिट ऊँची थीं

6. 1945 में जापान पर परमाणु बम गिराने पर जितनी ऊर्जा निकली थी उससे करीब 100 गुना ज्यादा एनर्जी भूकम्प से रिलीज होती है

7. जापान में सबसे ज्यादा भूकम्प आते हैं। यहाँ हर साल हजारों भूकम्प आते हैं

Earthquake
Earthquake

8. जापान की एक पुरानी मान्यता के अनुसार, एक नामाजु नाम की मछली के कारण भूकम्प आते हैं

9. दुनिया का सबसे भयंकर भूकम्प 22 मई, 1960 को चिली में आया था जिसकी तीव्रता 9.5 थी

10. कैलिफोर्निया में स्थित पार्कफिएल्ड को “भूकम्प की राजधानी” कहा जाता है

11. हर साल कैलिफोर्निया के इस क्षेत्र में करीब 10,000 भूकम्प आते हैं

12. National Earthquake Information Center (NEIC) के आंकड़ों के अनुसार हर साल करीब 20,000 भूकम्प आते हैं
============================================
एक और नया प्रयास – दोस्तों हिंदीसोच आज एक सफल हिंदी वेबसाइट है। आपने जिस तरह से इस ब्लॉग को सराहा है वो काबिले तारीफ है, आप लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद हमने हिंदीसोच की तरह एक नयी वेबसाइट लांच की है – HindimeTech.Com [http://www.hindimetech.com]ये वेबसाइट एक टेक्निकल ब्लॉग है जहाँ SEO और website से सम्बंधित जानकारियाँ publish की जाती हैं। आप लोगों से निवेदन है कि एक बार हमारे नए ब्लॉग को भी visit करें और यहाँ हम आपको technical help provide कराएँगे। SEO और google ranking से सम्बंधित आपके कोई भी question हों तो हमारा HindimeTech.Com ब्लॉग जरूर पढ़िए और अपने question comments में पूछिए, हम आपको solution जरूर देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Close