Essay on Navratri in Hindi – नवरात्रि का महत्व और पौराणिक कहानियां

Essay on Navratri in Hindi

चैत्र और शारदीय नवरात्रि का महत्व हिन्दू धर्म में बहुत विशेष है| नवरात्रि (Navratri) माँ दुर्गा की पूजा का विशेष त्यौहार है। नौ दिन तक माँ दुर्गा के अलग अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। ये शक्ति की पूजा है, वो शक्ति जो हम सबकी पालनहार है। हिन्दू धर्म में ये त्यौहार पूरे देश में बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है।

क्यों मानते हैं नवरात्रि का पर्व ?

हमारे यहाँ नवरात्रि के सम्बन्ध में काफी सारी पौराणिक कथायें प्रचलित हैं –

नवरात्री के समय ही माँ दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का वध किया था। महिषासुर ने भगवान शिव की कठोर उपासना करके उनसे कुछ शक्तियां मांग ली थीं। इन्हीं शक्तियों की वजह से स्वयं ब्रह्मा विष्णु महेश भी उसे मारने में सक्षम नहीं थे।

महिषासुर ने सभी देवताओं को भयभीत कर रखा था। इसलिए सभी देवता तब ब्रह्मा विष्णु महेश के पास गए और महिषासुर से मुक्ति की कामना की। तब सभी देवताओं ने अपनी शक्ति को मिलाकर एक नयी शक्ति को जन्म दिया जिसे माँ दुर्गा का नाम दिया गया। माँ दुर्गा के अनेक नाम हैं जिनमें “शक्ति” भी इनका एक नाम है।

माँ दुर्गा ने महिषासुर का वध करके देवताओं को राक्षसों के प्रकोप से मुक्ति दिलाई। तभी से माँ दुर्गा की पूजा का प्रचलन है।

एक अन्य पौराणिक कथा भी प्रचलित है –

भगवान राम, लक्ष्मण, हनुमान एवं समस्त वानर सेना ने आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक (शारदीय नवरात्रि) माँ दुर्गा की उपासना की थी। इसके बाद दसवें दिन भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई की थी और रावण को मारकर विजय प्राप्त की। इसलिए दसवें दिन दहशरा का पर्व मनाया जाता है जो असत्य पर सत्य एवं अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक है। नवरात्रि में आदिशक्ति माँ दुर्गा के नौ रूपों की उपासना की जाती है। उनके इन रूपों को नवदुर्गा भी कहते हैं।

नवरात्र में कुछ लोगों को खाने पीने की भी दिक्कत होती है क्योंकि इसमें खाने पीने के काफी नियम है और उनका पालन करना पड़ता है। नवरात्र के दिनों में फलाहार, कुट्टू या सिंघाड़े के आटे से बनी पकौड़ी और पूरी खा सकते हैं और अगर बीच में कुछ दिक्कत होती है तो निम्बू पानी, सूखे मेवे अथवा नारियल पानी भी ले सकते है। व्रत के समय केवल शाकाहारी भोजन ही ग्रहण करें।

आइये हम आपको कुछ ऐसी चीजें बताते हैं जिनको आप भूलकर भी ना करें अन्यथा मैया आपके रुष्ट हो सकती हैं

1. नवरात्रि के समय किसी को भी गंदे शब्द नहीं बोलने चाहिए। जो लोग व्रत रख रहे हैं वो किसी के बारे में ना ही गलत सोचें और ना ही अपशब्द कहें इससे मन की पवित्रता का हनन होता है।

2. नवरात्र में खाने में छौंक ना लगायें। सादा और सात्विक भोजन करें इससे मन को शांति मिलती है

3. नौ दिन तक माँस मदिरा और किसी भी प्रकार के नशे से दूर रहें

4. नवरात्र में प्यास और लहसुन ना खायें, ये सब तामसिक माने जाते हैं

5. ऐसा माना जाता है कि नवरात्र में जो लोग पूजा और उपवास करते हैं उनके शरीर में माँ दुर्गा का वास होता है इसलिए नौ दिन तक नाख़ून और बाल नहीं काटने चाहिए।

6. माँ दुर्गा की पूजा के समय चमड़े की चीजें नहीं पहननी चाहिए जैसे चमड़े के जूते, चमड़े की बेल्ट आदि

7. काले रंग के वस्त्र पूजा के समय ना पहनें..

नवरात्रि में धन प्राप्ति के उपाय – इन तीन दिन करें लक्ष्मी जी की विशेष पूजा

इन तीन दिन पूजा से कभी धन की कमी नहीं होती

नवरात्रि के पर्व का भारत में विशिष्ट स्थान है। नवरात्रि 9 दिनों का पर्व है जिसमें माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की नौ दिन तक पूजा की जाती है। माँ दुर्गा भगवान बह्मा विष्णु महेश की शक्तियों का ही एक रूप हैं जिन्होंने महिषासुर का वध करके देवताओं को राक्षसों के प्रकोप से बचाया था।

Godess-Durga-Laxhmi-Saraswati

नवरात्रि में होती है धन लक्ष्मी प्राप्ति –

जैसा कि आप सब जानते हैं कि नवरात्रि में माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की 9 दिन तक पूजा की जाती है। नवरात्रि के प्रथम तीन दिन माँ दुर्गा को समर्पित होते हैं। इन तीन दिनों में माँ दुर्गा की विशेष पूजा होती है। माँ दुर्गा शक्ति और ऊर्जा प्रदान करती हैं।

माँ दुर्गा के कई नामों में से एक नाम “शक्ति” भी है।

नवरात्रि के अगले तीन दिन माँ लक्ष्मी को समर्पित होते हैं। इन तीन दिनों में विशेष पूजा करें क्योंकि ये माँ लक्ष्मी के दिन हैं। जिन घरों में इन तीन दिन की विशेष पूजा होती है वहां लक्ष्मी जी की विशेष कृपा होती है। लक्ष्मी जी धन और संपत्ति की दात्री हैं।

नवरात्रि के अगले तीन दिन माँ सरस्वती को समर्पित होते हैं। माँ सरस्वती ज्ञान और बुद्धि प्रदान करती हैं।

माँ सरस्वती बह्मा जी की पुत्री हैं उन्हें “ज्ञान की देवी” भी कहा जाता है। शक्ति और धन की प्राप्ति के बाद माँ सरस्वती इन सब पर नियंत्रण के लिए ज्ञान प्रदान करती हैं।

मित्रों नवरात्रि केवल एक पर्व नहीं है बल्कि ये नौ दिंनो की एक देवी उपासना है जिसमें विशेष बल होता है और ये उपासना शारीरिक, शैक्षिक और बौद्धिक शक्ति प्रदान करती है।

आप सबको हिंदीसोच की तरफ से नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें, माँ दुर्गा आपकी और आपके परिवार की रक्षा करें…

दोस्तों हिंदीसोच की हमेशा यही पहल रही है कि आप लोगों के लिए प्रेरक कहानियाँ और ज्ञान की बातें शेयर करते रहें। अगर आप चाहते हैं कि ये ज्ञान की बातें प्रतिदिन आपके ईमेल पर भेज दी जाएँ तो आप हमारा ईमेल सब्क्रिप्शन ले सकते हैं इसके बाद आपको सभी नयी कहानियां ईमेल कर दी जाएँगी- Subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें

ये भी देखें-

माँ दुर्गा के अतिसुन्दर चित्र
नवरात्रि की शुभकामनायें चित्र सहित
नवरात्रि कब से शुरू हो रही हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

8 Comments

  1. नवरात्री व दुर्गा पूजा के पावन अवसर पर बहुत ही अच्छी जानकारी शेयर की आपनी, आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

  2. Pawan Bro…ek do follow backlink ke liye maine aapke liye post kiya….lekin aaj check kiya to pata chala kiya..aapne to nofollow backlink diya mujhe…vishwas hi nahi hua…phle hi mana kar dete bro..

    1. Tinku ji mafi chahunga hamne ispar phle baat nahi ki thi.. actually hindisoch.com par dofollow link allow nahi hai.. Apne hindisoch ke liye apna content diya iske liye dhanyvaad aap chahe to me aapke content ke liye aapko kuch pay bhi kar sakta hu.. I hope you can understand

Close