एक सलाह सफल होने के लिए Advice for Successful Life

Successful Life Tips

कुछ दिन पहले हिंदीसोच पर किसी व्यक्ति का एक ईमेल आया था। मैंने उस मेल को गंभीरता से पढ़ा उसमें लिखा था –

“श्री मान, मैं हिंदीसोच का पाठक हूँ, मैं बहुत सारी मोटिवेशनल कहानियां पढता हूँ, उन्हें पढ़कर बहुत अच्छा लगता है। मैंने और भी बहुत सारी प्रेरक पुस्तकें पढ़ी हैं लेकिन मैं इतना मोटिवेशन पढ़ने के बावजूद भी खुद को सफल महसूस नहीं करता। मैं कई बार नए लक्ष्य बनाता हूँ लेकिन हमेशा किसी ना किसी कारण से अपने लक्ष्य पूरा नहीं कर पाता। मैं अच्छी संगति में रहता हूँ अच्छी पुस्तकें पढता हूँ लेकिन फिर भी मैं सफल क्यों नहीं हो पा रहा हूँ? मैंने सुना है कि अच्छी संगति इंसान की प्रगति में सहायक होती है लेकिन मेरे साथ ऐसा क्यों नहीं होता है?”

मैं अपने इन मित्र को छोटी सी सलाह देना चाहता हूँ – The way to success

मित्र केवल अच्छी संगति रखने से ही सब कुछ नहीं होता, आप जो पढ़ते हैं, किताबों में पढ़कर जो सीखते हैं उसे अपने व्यवहार में लाइए। कहानियों की प्रेरणा को अपने दैनिक जीवन में इस्तेमाल करिये।

सोचिये अगर केवल संगति से ही सारी अच्छाइयां आ जातीं तो गन्ने के साथ साथ उगने वाले पौधों में भी मीठा रस क्यों नहीं होता??

केवल अच्छी संगति रखने से ही कोई व्यक्ति विद्वान या साधु नहीं बन जाता। संगत से सकारात्मक बातें सीखकर उन्हें अपने जीवन में व्यावहारिक रूप से उतारने पर ही संगत की सार्थकता होगी अन्यथा सब मरघटिया वैराग्य ही साबित होगा।

गन्ने ने खुद में धरती से रस खींचकर खुद को मीठा बना लेने की क्षमता विकसित कर ली हुई है इसलिये वह मीठा बन जाता है परन्तु उसके साथ ही उगनेवाली घास-फूस एवँ अन्य झाड़ियाँ रूखी ही रह जाती हैं….!! क्यूंकि वह उसके साथ रहकर भी उसकी अच्छाइयां नहीं सीख पायीं।

अच्छी संगति केवल आपके व्यवहार में बदलाव ला सकती है। असली काम तो आपको खुद ही करना होता है, आप अपने मन को एकाग्रचित करके अपने जीवन को नकारात्मकता से सकारात्मकता की ओर ले जा सकते हैं, नहीं तो आप के लिए अच्छी संगत का कोई तात्पर्य ही नहीं है- फिर तो आपने केवल प्रवचन को सुना है, गुणा नहीं है। यदि आप गुण लेते हो तो जीवन में गन्ने के रस से भी ज्यादा मिठास होगी, वरना कडवाहट की तो कोई कमी है ही नहीं।

तो दोस्तों अच्छी संगति रहना, अच्छी किताबें पढ़ना निश्चित ही आपकी सफलता में सहायक सिद्ध होगा लेकिन आपको इनसे मिली शिक्षा को अपने जीवन में उतारना होगा, तभी संगति का फायदा होगा!!!!!!

सफल होना चाहते हैं तो ये भी पढ़ें –
समस्याओं पर नहीं लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें
लघु कथा Laghu Katha असम्भव कुछ भी नहीं
जिन्दगी की कीमत : जिन्दगी का सच यही है
नदी का पानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

33 Comments

  1. Pata h .dost mera mobile kho gya h aur bht sari important file thi..pics thi .maine Kisi k bat KO unsuna kar del mar dia..aj bht patchtawa Ho rha h …bt much v Ni kar skte h..depression lag rha h..kisi k bat KO n mankar viswas tut gya hmpar..khud KO Sambhal Ni pa tha hun plzzz suggested m ..

  2. apki khani bahut achhi lagi. mujhe nind bahut aati h, mai kya karu pata nahi? mein sone k baad sapna bahut dekhta hun, aur mujhe 90% yaad bhi rahta h. mera dimag hamesha chalta rahta h, kabhi sant nahi rata hai. mai kishi bhi kaam ko man se nahi kar pata hun, kishi kam me man nahi lagta hai kya karun?????????? HELP ME PLEASE……..!

    1. Nind aana acchi bat hai bro. Lekin nind tab jyada aati hai jab aapke pas koi kam na ho ya aap kisi tension me ho. To koi interesting kam me apna time lagaiye fir nind nahi aayegi 🙂

  3. hindiscoch aapki salah bahut achchi lagi aur main koshish karung ki main bhi in sari chijo ko apne aap me viksit karu……….

  4. mai hindi soch se nayi judi hu mere problem hi ki mai kuch v acha soch kr krti hu or bura ho jata hi so suggus me ki mai kya kru jis se sbka dil jeet sku

    1. Shlipa, aap jo bi kare har kam ko pure dhyan aur lagan se kare… aur purani galtiyo se sikhna na bhule.. kai bar ham fail hote but agar ham fir se koshish karne par ham success ho sakte hai but sabse important hai ki jab aapke sath galat hua h to pura analysis kare ki aisa kyu hua..aur fir aage badhe

  5. I am Mohit Kumar.. m Jaanta hu ki mera goal Kya h..or mjhe vishwash h ki m use poora kr skta hu..lekin mere or mere sapne ke beech me sabse badi rukawat h.. mera pariwar.. m ek lower middle class family se hu..lekin meri soch hamesha higher class ki rhi h..pr mera pariwar na to khud us middeocrity se nikal paya.. na mujhe nikel ne deta h…mjhe unse koi suppport nhi chahiye..pr m chahta hu ki wo mujhe roke bhi na….ab mjhe batao ki m kya kru…yaha pr ek condition or bhi h.. ki m unhe samjha nhi skta…kyuki unki soch badal nhi skti..kyuki jaha hum rehte h ..wo sab aise he h..

  6. Hiiii
    Myself vinayak I m teacher at m.s. basant
    I’m prepare for upsc please give me a mentor
    My mobile number is 7870729168
    Your faithfully
    V.m.jha

  7. सबसे अच्छी बात ये समझ मे आई की हम किसी बात को पढ के भूल जाते है उसको अपने उपर लागु नही करते

  8. Hello Sir me jindagi me sandhars bahot karchuka hu sir mere pas bahot tips he kuch karne me liya mera ma bhadak jata he kabhi ye karu? vo karu ?kya karu ?kuch samaj nahi aata

  9. खुद के ऊपर नियंत्रण न हो पा रहा है तो कैसे खुद पर नियंत्रण बनाएं।
    please बताइये

    1. खुद पर नियंत्रण करने के लिए आप सबसे पहले किसी भी तनाव या गुस्से को मन से निकाल दीजिये और हर पल सकारात्मक सोचिये.. मन में अच्छे विचार रखिये और जो कुछ भी करें अपने मन से एक बार जरुर पूछें कि क्या मैं सही कर रहा हूँ

  10. सफल होने की यह सलाह बहुत पसंद आई और यह मेरे लिए एक नया ज्ञान है जिस पर विचार करना तो बनता है और इसके लिए आपका धन्यबाद

  11. मैं आपकी बात से बिलकुल सहमत हूँ। सकरात्मत सोच को व्यव्हार में लाने से ही प्रगति होगी। धन्यवाद् इस जानकारी को हम लोगों के साथ बांटने के लिए।

  12. bhut he kaam ki jaankari share ki hai aapne. mere liye bhut he helpful hai. thanks for sharing with us. aap mere blog ko bhi ek baar jarror check kare. futuretrick.org

  13. bhut he kaam ki jaankari share ki hai aapne. mere liye bhut he helpful hai. thanks for sharing with us. aap mere blog ko bhi ek baar jarror check kare.

Close