आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है, Need is the Mother of Invention

कहा जाता है की आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है, और कनाडा के एक फिल्ममेकर रॉब स्पेंस ने इस तथ्य को सिद्ध कर दिया|

रॉब बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा के धनी थे उन्हे शूटिंग करने का बहुत शौक था|

किशोरावस्था में एक बार शूटिंग के दौरान एक कठिन स्टंट में उनकी आँख में चोट लग गयी| और नतीज़ा ये हुआ की इन्हें अपनी दाँयी आँख से हाथ धोना पड़ा|

Real-Cyborg-Eye

रॉब की एक आँख खराब होने के कारण खुद को हीन महसूस करते थे| बस उनकी यही हीनभावना और मेहनत ने उन्हें बहुत बड़ा वैज्ञानिक बना दिया|

रॉब ने एक क्रत्रिम आँख में वायरलेस केमरा फिट किया और वीडियोलिंक तकनीक से वे सब कुछ देख सकते थे|

उनका यह आविष्कार दुनियाँ भर में प्रसिद्ध हुआ|

मज़े की बात यह है की यह केमरा ना तो रॉब की नकली आँख से जुड़ा है और ना ही मस्तिष्क से, रॉब जो कुछ भी देखते हैं वो केमरा सब कुछ रेकॉर्ड कर लेता है और उसमे एक छोटा ट्रांसमीटर लगा है जिसकी मदद से रोब कंप्यूटर पर अपनी आँख से रिकॉर्ड की गयी हर चीज़ देख सकते हैं|

और आज रॉब नकली आँख से भी बहुत अच्छी तरह ये खूबसूरत दुनियाँ देख रहे हैं| यह एक बड़ा तकनीकी आविष्कार था जिसने रॉब का नाम साइन्स की दुनियाँ में अमर कर दिया |

ये लेख भी आपको प्रेरित करेंगे –
समस्या का निवारण
बच्चों को दें संस्कार व् शिष्टाचार
धूर्त मेंढक, जैसी करनी वैसी भरनी
आर्यभट्ट और ज़ीरो की खोज

Back to top button