बच्चों के लिए मोरल स्टोरी – आपसी मेलजोल से मिलती हैं खुशियाँ

बच्चों के लिए मोरल स्टोरी

एक बार एक अध्यापक कक्षा में पढ़ा रहे थे अचानक ही उन्होंने बच्चों की एक छोटी सी परीक्षा लेने की सोची । अध्यापक ने सब बच्चों से कहा कि सब लोग अपने अपने नाम की एक पर्ची बनायें । सभी बच्चों ने तेजी से अपने अपने नाम की पर्चियाँ बना लीं और टीचर ने वो सारी पर्चियाँ लेकर एक बड़े से डब्बे में डाल दीं ।

बच्चों के लिए मोरल कहानी
बच्चों के लिए मोरल कहानी

अब सब बच्चों से कहा कि वो अपने अपने नाम की पर्चियां ढूंढे ।

फिर क्या था , सारे बच्चे डब्बे पे झपट पड़े और अपनी अपनी पर्चियां ढूंढने लगे और तेजी से ढूंढने के चक्कर में कुछ पर्चियां फट भी गयीं पर किसी को भी इतनी सारी पर्चियों में अपने नाम की पर्ची नहीं मिल पा रही थी ।

टीचर ने कहा – क्या हुआ किसी को अपने नाम की पर्ची मिली , सारे बच्चे मुँह लटकाये खड़े थे । टीचर हल्का सा मुस्कुराये और बोले – कोई बात नहीं , एक काम करो सारे लोग कोई भी एक पर्ची उठा लो और वो जिसके नाम की हो उसे दे दो ।

बस फिर क्या था , सारे बच्चों ने एक एक पर्ची उठा ली और जिसके नाम की थी आपस में एक दूसरे को दे दी , 2 मिनट के अंदर सारे बच्चों के पास अपने अपने नाम की सही सही पर्चियां थीं ।

अध्यापक ने बच्चो को समझाया – कुछ देर पहले जब तुम लोग अपनी अपनी पर्चियां ढूंढ रहे थे तो काफी समय बाद भी सही पर्ची नहीं पकड़ पाये और अगले ही पल जैसे ही मिलकर पर्चियां ढूढ़ी 2 मिनट के अंदर ही मिल गयी|

इसी तरह हम लोग जीवन की भाग दौड़ में अकेले ही खुद के लिए भागते रहते हैं लेकिन कभी खुशियां नहीं ढूढ पाते अगर हम मिलकर एक दूसरे का काम करें एक दूसरे के दुःख और सुख बाटें तो खुश रहना बहुत आसान हो जायेगा ।

किसी महापुरुष ने कहा है कि अगर आप खुश रहना चाहते हैं तो कोशिश करें की दूसरे लोग आपसे खुश रहें ।

शानदार प्रेरक कहानियां आपके लिए –
कैसे बनें अमीर, How to Become Rich in Hindi
स्वामी विवेकानन्द हिंदी कहानियाँ – दिमाग की शक्ति
Life {Motivational} Quotes in Hindi – जिन्दगी बदल जाएगी
नन्हीं चिड़िया, Hindi Short Stories, Hindi Moral Story For Kids
कुछ रोचक जानकारी क्या आपको पता है ?
कैसे बढ़ाएँ आत्मविश्वास, Self Confidence Tips In Hindi

Related Articles

24 Comments

  1. Aaj yhi dekhne ko mil raha hai .aaj har koi dusro ko dukh de kar kush hote.har koi dusro ko piche chhod apne ko age rakne ki horr/kossis me lage rahte hai.lekin koi age nhi ho pata hai balki sab piche ho hate hai.aapne is bare me mention kar bahut hi achha wichar prakt kiya .agar hm sath hokar chale to kamyabi jarrur milegi.sir plz bataiye ga ki me aapki tarah story kese likhu.plz sir help me & thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close