जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

Bachon ki kahaniyan कहानियाँ, आखिर हम क्यों हैं सफलता से दूर


Bachon ki kahaniyan

एक बार मधुवन वन में एक कौआ खाने की तलाश में आकाश में उड़ रहा था । उन दिनों वो कौआ अपने जीवन से बहुत संतुष्ट था उसे लगता था कि वह बहुत खुश और जंगल का सबसे अच्छा प्राणी है। दूर उड़ते हुए उसकी नज़र अचानक एक हंस पर पड़ी , हंस को देखते ही कौआ को बड़ा आश्चर्य हुआ कि मैं खुद को सुंदर समझता था लेकिन ये हंस तो मुझसे कई गुना ज्यादा सुन्दर है। कौए ने कुछ सोचकर ये बात हंस को बताई, तो हंस को हंसी आ गयी , हंस बोला – मित्र मैं भी पहले यही सोचता था कि मैं सबसे सुन्दर हूँ पर जबसे मैं तोते को देखा है तो लगता है वही सबसे सुन्दर है क्यूंकि मेरे पास तो बस एक सफ़ेद रंग है तोते के पास तो दो रंग हैं।

फिर क्या था, कौआ तेजी से उड़ता हुआ तोते के पास गया और बोला -मित्र तुम तो बहुत सुन्दर हो। तोता कौए की बात सुनकर बड़ा दुखी हुआ बोला – मित्र मैं भी यही सोचता था ,लेकिन जब से मैंने मोर को देखा है मुझे अपनी सुंदरता फीकी नजर आती है क्यूंकि मोर से पास बहुत सारे रंग हैं और वो बहुत सुन्दर दिखाई देता है मेरी नजर में वही सबसे सुन्दर है । फिर कौआ दूर उड़ता हुआ एक चिड़ियाघर में मोर से मिलने गया।

कौए ने मोर की सुंदरता की बहुत प्रशंशा कि लेकिन उसकी बात सुनकर मोर गंभीर होते हुए बोला -मित्र क्या फायदा ऐसी सुंदरता का देखो मैं तो पिंजरे में बंद हूँ मैं तुम्हारी तरह स्वछन्द आकाश में उड़ भी नहीं सकता और मैंने तो सुना है कि पूरे जंगल में केवल कौआ ही ऐसा प्राणी है जिसे कोई पिंजरे में कैद नहीं रखता तो इस तरह से तो मेरे से अच्छी जिंदगी तुम्हारी है । कौए को सारी बात समझ में आ गयी थी ।

मित्रों, उम्मीद है कि आपको भी कहानी की शिक्षा समझ आ गयी होगी। हम लोग अपने काम और अपने लक्ष्य पर ध्यान ना देकर बिना वजह ही दूसरों से अपनी तुलना करने लगते हैं। हम सोचते हैं कि अमुक के पास तो इतना पैसा(Rich) है मेरे पास तो कम है, हम सोचते हैं कि अमुक व्यक्ति तो बड़ी कंपनी में नौकरी(Job) करता है मैं नहीं करता, हम सोचते हैं कि अमुक को बहुत सुन्दर हैं मैं क्यों नहीं, हम सोचते हैं अमुक बहुत बुद्धिमान है मैं क्यों नहीं , हम सोचते हैं कि अमुक पढ़ने में बहुत अच्छा है मैं क्यों नहीं,अमुक व्यक्ति तो बहुत खुश रहता है मैं क्यों नहीं ?

तो मित्रों ऐसी ही सोच की वजह से हम दुखी रहते हैं और अपने लक्ष्य और अपने काम पर पूरा फोकस नहीं कर पाते और फलस्वरूप दूसरे लोग हमसे हमेशा आगे रहते हैं क्यूंकि हम खुद ही उनको अपने से अच्छा मान लेते हैं और हमेशा खुद को दूसरों से कम आंकते हैं। लेकिन हम ये बात भूल जाते हैं कि हर इंसान में एक अलग खूबी होती है, हर इंसान में विलक्षणता होती है लेकिन हम कभी खुद की ताकत को पहचानते ही नहीं हैं हमेशा दूसरों को अपने से सबल मान लेते हैं बस यही दुःख की सबसे बड़ी वजह है।

तो आज मेरे साथ इस पोस्ट को पढ़ते हुए कसम खाइये, अभी खाइये और नीचे कमेंट में लिखिए कि कभी बेवजह दूसरों से अपनी तुलना नहीं करेंगे और पूरा फोकस अपने लक्ष्य पे लगाना है फिर देखना आप बहुत जल्द उन लोगों से मीलों आगे निकल जायेंगे जिनसे आप अपनी तुलना करते हैं| आपसे क्या सीखा ? नीचे कमेंट में जरूर लिखें

loading...

सभी पोस्ट ईमेल पर पाने के लिए अभी Subscribe करें :

सब्क्रिप्सन फ्री है

***** समस्त हिन्दी कहानियों का सॅंग्रह ज़रूर पढ़ें ******

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

92 Comments

  1. PRBHAT MISHRA June 29, 2015
  2. deepu soni June 29, 2015
  3. अभिषेक यादव June 29, 2015
    • rahul October 12, 2016
  4. mehbub siddiqui June 29, 2015
  5. deepak horpal June 30, 2015
  6. Kumar Keshav June 30, 2015
  7. Ajeet kr July 1, 2015
  8. Shûbhäm såhü July 1, 2015
  9. naveenkumar July 1, 2015
  10. Bittu Kumar Prem July 1, 2015
  11. Niraj Sidar July 2, 2015
  12. mohd kaleem July 2, 2015
  13. vishal July 4, 2015
    • sukhvinder singh Nivadha April 7, 2016
  14. pramod July 6, 2015
  15. Bhavneesh kumar July 7, 2015
  16. Piyush jain July 10, 2015
  17. akshay July 12, 2015
  18. sampath July 14, 2015
  19. Manish kumar July 24, 2015
  20. Ajay kumar mandal July 26, 2015
  21. Tapan Kumar Debnath July 29, 2015
  22. Harshvardhan July 30, 2015
  23. IMRAN TAHIR July 31, 2015
  24. Sandip August 1, 2015
  25. jitender August 2, 2015
  26. Ramchandra Yadav August 6, 2015
  27. Jai krishna August 22, 2015
  28. Aryan(Nandu) September 8, 2015
  29. Dharmendra singh September 8, 2015
  30. Mohammad Zafar September 10, 2015
  31. vikram September 11, 2015
  32. Nitish September 17, 2015
  33. Nitish September 17, 2015
  34. ashish September 17, 2015
  35. Jyoti prakash rai September 19, 2015
  36. Tinku September 21, 2015
  37. Asif Siddikee October 5, 2015
  38. Rahul Prasad October 5, 2015
  39. O P SHARMA October 8, 2015
  40. Shikha October 15, 2015
    • rahul August 24, 2016
  41. Akash tyagi October 17, 2015
  42. Vijay singh October 20, 2015
  43. qayyum October 27, 2015
  44. dinesh October 30, 2015
  45. Gourav Sharma December 2, 2015
  46. nirala December 20, 2015
  47. Umesh Kumar Maurya December 27, 2015
  48. saurabu verma January 7, 2016
  49. nitin pandey January 22, 2016
  50. mohit kumar April 2, 2016
  51. Romana Aryan April 19, 2016
  52. Mahesh April 22, 2016
  53. khoobchandra anuragi May 9, 2016
  54. SHAILENDRA RATHORE May 11, 2016
  55. sharan May 20, 2016
  56. shavej choudhary May 26, 2016
  57. Pushpendra Kumar June 5, 2016
  58. luckypatkar June 8, 2016
  59. Ambesh kumar June 18, 2016
  60. Gurjeet singh June 24, 2016
  61. suresh June 25, 2016
    • Pawan Kumar June 26, 2016
  62. sanjay rajput June 28, 2016
  63. Babita July 6, 2016
  64. Nitish kr. July 7, 2016
  65. shubham bunker July 7, 2016
  66. Kuldeep tandan (K.S.P) July 8, 2016
  67. Akhil kumar July 16, 2016
  68. Mohit agarwal July 21, 2016
  69. Rajeev kumar July 22, 2016
  70. sahil Toshkhani July 23, 2016
  71. Nagaraj July 29, 2016
  72. CHAKRDHARI August 27, 2016
  73. pankaj Kumar darbhanga bihar August 28, 2016
  74. Dharmendra prajapati October 13, 2016
  75. Kishan kanhaiya October 14, 2016
  76. hem chandra fulara October 21, 2016
  77. ashok bhardwaj October 22, 2016
  78. Narayan bairwa October 28, 2016
  79. ramu maurya November 13, 2016
  80. Sushil Kumar November 17, 2016
  81. pankaj kumar November 25, 2016
  82. ravendra singh December 10, 2016
  83. prem nath December 11, 2016
  84. Ajit Das December 15, 2016
  85. Raju yadav December 18, 2016
  86. SATAYPAL MAAN December 28, 2016
  87. irfan gandhi January 5, 2017
  88. Shalu bhati January 7, 2017