जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

Vyang गंभीर व्यंग्य “लोग आपकी गलती का इंतजार करते हैं”

समाज पर एक व्यंग्य

Samaj par vyangएक व्यंग्य- एक बार एक गणित के अध्यापक ने कक्षा में प्रवेश किया और सारे बच्चे उनके सम्मान में कुर्सी से उठ खड़े हुए। अध्यापक आज बड़े खुश नजर आ रहे थे उन्होंने बच्चों से कहा कि आज मैं आपको कुछ नया सिखाऊंगा।

अध्यापक ने ब्लैक बोर्ड पर लिखना शुरू किया –

9×1=7
9×2=18
9×3=27
9×4=36
9×5=45
9×6=54
9×7=63
9×8=72
9×9=81
9×10=90

अब जैसे ही अध्यापक मुड़े तो देखा बच्चे उनकी गलती को देख कर मुस्कुरा रहे थे क्योंकि पहली ही लाइन में उन्होंने गलती कर दी थी। बच्चों को मुस्कुराता देख के अध्यापक बोले कि ये गलती मैंने जान बुझ कर की है और आज मैं तुमको एक बहुत प्रेरक पाठ पढ़ाने वाला हूँ।

मैंने 9 लाइन सही लिखीं लेकिन आप में से किसी ने मेरी प्रशंसा नहीं की लेकिन जैसे ही मैंने एक लाइन गलत लिखी आप सब लोग मेरी हंसी उड़ाने लगे। बच्चों जब तुम सही काम कर रहे होते हो तो कोई तुम्हारी प्रशंसा नहीं करता लेकिन तुम अगर एक भी गलती कर दो तो लोग तुम पर हंसने लगते हैं।

आज कल तो लोग जैसे आपकी गलती का ही इंतजार करते हैं। लेकिन इन सब बातों से आपको अपना आत्मविश्वास नहीं खोना है बल्कि मजबूत मनोबल के साथ आगे बढ़ना है। बच्चों यही इस कहानी की शिक्षा है।

दोस्तों सच तो यह है कि लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर शक करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं। कई बार कुछ ऐसी किस्से सुनने में आते हैं, 3 दोस्त आपस में बात कर रहे थे –

पहला – यार वो मदन था ना अपना दोस्त, उसकी तो किसी बड़ी कंपनी में जॉब लग गयी उसकी सैलरी भी 50 हजार है
दूसरा – अरे वो झूठ बोल रहा होगा, बड़ी कंपनी में जॉब मिलना उतना आसान नहीं है
तीसरा – अरे कल तो मैंने उसे ऑटो में जाते देखा था अगर 50 हजार सैलरी होती तो गाड़ी में ना जाता,, वो झूठ बोल रहा है

देखा किसी ने यकीन नहीं किया। अब आगे –

पहला – यार वो रवि था ना अपना दोस्त, उसको जॉब से निकाल दिया है
दूसरा – ओह बहुत बुरा हुआ, वैसे रवि थोड़ा technically weak था उसे ज्यादा नॉलेज नहीं थी
तीसरा – हम्म मुझे तो पहले ही पता था वो जॉब नहीं कर पायेगा

देखा सबने यकीन कर लिया। और ये कोई बनायीं हुई बातें नहीं है ये सच्चाई है, मानो या ना मानो………………..

लेकिन जो लोग इस आर्टिकल को पढ़ रहे हैं मैं उन सब लोगों से गुजारिश करूँगा कि अगर कोई मित्र परेशानी में है या किसी से कोई गलती हुई है तो उसकी हंसी ना उड़ाइये। सच मानिये ये सब चीजें इंसान का आत्मविश्वास गिरा देती हैं, दूसरों को नकारात्मक बना देती हैं। आप दूसरों की मदद करिये, दूसरों के अच्छे कामों की प्रशंसा कीजिये, यही इस कहानी की सीख है।

और हाँ, कहानी पढ़ने के बाद कही मत जाइये, नीचे कमेंट बॉक्स में अपना विचार जरूर लिखिए, मैंने अच्छा काम किया है तो मेरी तारीफ कीजिये 🙂 just kidding लेकिन कमेंट करना ना भूलना।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

61 Comments

  1. Rupa Kumari
  2. satnam singh
  3. sheetal
  4. rahul bitrai
  5. Rishav kumar
  6. राकेश
  7. pawan kumar
    • Pawan Kumar
  8. Hemanta
    • Pawan Kumar
  9. Aditi
    • Pawan Kumar
  10. MANIKANT KUMAR MANI
    • Pawan Kumar
  11. NITIN TYAGI
  12. Manish Jishi
    • Pawan Kumar
  13. Rachna
    • Pawan Kumar
  14. नई विचारधारा
    • Pawan Kumar
  15. vikram
  16. satish Napit
  17. Indal maurya
  18. yogesh singh
  19. krishna das mahant
    • Pawan Kumar
  20. amit
    • shridhar baghel
  21. tarun goyary
  22. pravin
  23. Satyam
  24. Roshan Ali
  25. Sushil Kumar
  26. Sushil Kumar
  27. aman kumar
  28. Hariraj
  29. dinesh
  30. krishna sharma
  31. Anny Arora
  32. RAJKUMARI SIGH
  33. Lalit Kumar
  34. Sajjan khadka
  35. Mohit sharma
  36. Achhipost
  37. Ram Yadav
  38. Vinod
  39. Lovedeep Singh
  40. Lakshya
  41. Anil yadav
  42. Raghuvir kr pratap
  43. Vijay Suvas Muzaffarpur
  44. Bijay kumar
  45. नरेश कुमार
  46. Rajendra Yadav
  47. Subhash
  48. hemang
  49. kamdev singh choudhary
  50. yashwant lal jaiswal
  51. satish verma
  52. BITTU KUMAR