जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

दुनिया के टॉप अमीर लोग जिनके पास कोई डिग्री नहीं है

जो लोग सपने देखने की हिम्मत रखते हैं वही लोग अपने सपने साकार करते हैं। दोस्तों दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने अपनी पढाई को बीच में ही छोड़ दिया लेकिन आगे चलकर वो दुनियाँ के सबसे अमीर और सफल लोगों में जाने गए। सफलता केवल अक्षरज्ञान का नाम नहीं है। सफलता के लिए इंसान के अंदर जूनून और आगे बढ़ने की भूख होनी चाहिए। दुनिया का कोई लक्ष्य असंभव नहीं है। आज हम इस लेख में ऐसे ही लोगों के बारे में जानेंगे जिनके पास कोई डिग्री नहीं थी लेकिन फिर भी वो लोग सफल हुए और एक असाधारण उदहारण पेश किया-

Duniya Ke Ameer Log without College Degree

bill-gates

Bill Gates

बिल गेट्स(Bill Gates) – माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी के लिए हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की पढाई बीच में छोड़ी| बिल गेट्स को बचपन से ही कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग का शौक था। मात्र 13 वर्ष की आयु में उन्होंने बड़े बड़े सॉफ्टवेयर बनाने शुरू कर दिए थे। यही नहीं हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने के पाँच साल पहले से ही बिल प्रोग्रामिंग एक्सपर्ट थे। 1975 में बिल गेट्स ने अपनी पढाई बीच में छोड़ दी और अपने मित्र पॉल एलन के साथ माइक्रोसॉफ्ट को आगे बढ़ाने में जुट गए। बिल गेट्स आज दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार हैं।

Oprah Winfrey

Oprah Winfrey

Oprah Winfrey – ओपराह विनफ्रे को शुरुआत से ही मीडिया में बहुत अधिक रूचि थी। स्कूल में स्टेज पे भाषण देना और अन्य मिडिया सम्बंधित चीज़ें विनफ्रे की फेवरेट थीं। कुछ टाइम उन्होंने लोकल रेडियो स्टेशन में नौकरी भी की थी। जब ये Tennessee State University में थीं तब इनको मीडिया में अच्छी नौकरी मिली और इन्होंने अपनी पढाई को छोड़कर मीडिया में करियर पर ध्यान दिया। आज विनफ्रे विश्व की सफलतम लोगों में गिनी जाती हैं।

michael-dell

Michael Dell

Michael Dell – माइकल डैल ने मात्र 19 वर्ष की अवस्था में ही कॉलेज बीच में छोड़ दिया था। इन्होने डैल कम्प्यूटर कम्पनी की स्थापना की। 1992, में माइकल को वर्ल्ड का सबसे youngest CEO घोषित किया गया था। माइकल ने $1,000 डॉलर के साथ ही अपने बिजनिस की शुरुआत की थी और आज Dell Inc. दुनियाँ की टॉप कम्प्यूटर बनाने वाली कम्पनियों में से एक है।

Steve_Jobs

Steve Jobs

Steve Jobs – स्टीव जॉब्स वो शख्स हैं जो लाखों युवाओं के लिए आइडियल पर्सनालिटी हैं। स्टीव ने भी अपनी कॉलेज की पढाई बीच में छोड़ दी थी और 1975 में “एप्पल” कम्पनी की स्थापना की। स्टीव ने Reed College से मात्र एक सेमेस्टर के बाद पढाई छोड़ दी थी लेकिन उनके अंदर बहुत लगन और आगे बढ़ने का जुनून था, जिसके दम पे स्टीव जॉब्स ने पूरी दुनियाँ में अपना नाम कर दिया।

Matt Mullenweg

Matt Mullenweg

Matt Mullenweg – मुलेनवेग ने 2004 में University of Houston से अपनी पढाई अधूरी छोड़ दी थी। आपको यकीन नहीं होगा मात्र 20 वर्ष की आयु में उन्होंने WordPress जैसा बड़ा सॉफ्टवेयर बना लिया था। और वह प्रोग्रामिंग फिल्ड में ही नौकरी तलाश रहे थे, लेकिन अच्छी नौकरी ना मिलने के कारण उन्होंने अपने अपने WordPress को ही आगे बढ़ाने का सोचा और खुद की कम्पनी की स्थापना की और आज दुनियाँ की करीब 23% वेबसाइट WordPress में ही बनी हैं।

Mark Zuckerberg

Mark Zuckerberg

Mark Zuckerberg – मार्क जुकरबर्ग के बारे में शायद किसी को कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। जुकरबर्ग मेरे आइडियल पर्सन हैं मैं हमेशा से उनके जैसा बनना चाहता हूँ। 2004 में जुकरबर्ग ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से अपनी पढाई अधूरी छोड़ दी थी और फेसबुक को बनाया जो आज करोड़ों नहीं अरबों लोगों की फेवरेट वेबसाइट है जिसने सोशल मीडिया को एक नया बूम दिया। आज मार्क दुनियाँ के टॉप अमीरों में गिने जाते हैं।

Larry_Elllison_on_stage

Larry Elllison

Larry Ellison – एलिसन के बारे में मजेदार बात यह है कि ये दो बार अपना कॉलेज पढाई छोड़ चुके हैं। पहले University of Illinois से 2 साल की पढाई के बाद कॉलेज बीच में छोड़ दिया, बाद में इन्होने University of Chicago में एडमिशन लिया और वहाँ से भी मात्र 1 सेमस्टर के बाद पढाई छोड़ दी। बाद में इन्होंने जाने माने डेटाबेस सॉफ्टवेयर Oracle का निर्माण किया जो आज सबसे ज्यादा use किया जाने वाला डेटाबेस है और Oracle आज दुनियाँ की टॉप प्रतिष्ठित कम्पनियों में जानी जाती है।

तो दोस्तों केवल डिग्री होना ही काफी नहीं है। अपने इंटरेस्ट के हिसाब से काम करिये। वो काम करिये जिसमें आपकी रूचि हो फिर काम सिर्फ काम ना रहकर एक खेल बन जायेगा। अपने अंदर के आत्मविश्वास को जगाइए और मेहनत के साथ जुट जाइये, बहुत जल्दी आपका नाम भी इन्हीं लोगों की श्रेणी में होगा।
धन्यवाद!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 Comments

  1. Ratneshwar Prasad Sinha