जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

सफलता की कुंजी अब आपके हाथ में – निराशा से सफलता तक ले जाने वाली कहानी


सफलता की चाबी

saflta ka mantra by abdul kalam

निराशा से सफलता तक ले जाने वाली कहानी

एक कम्पनी के मालिक ने देखा कि उसकी कम्पनी के सारे कर्मचारी बड़े ही निराश और दुःखी जैसे दिखते थे। उनके अंदर आत्मविश्वास और ऊर्जा जैसे खत्म हो चुकी थी। कम्पनी के मालिक ने उन लोगों को फिर से नयी शक्ति और उनका आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए एक नयी तरकीब सोची –

सुबह जैसे ही सभी कर्मचारी कम्पनी के अंदर जाने लगे अचानक उन्होंने देखा कंपनी के बाहर एक नोटिस लगा हुआ था कि –

“जो व्यक्ति कल तक आपको आगे बढ़ने से रोक रहा था, आज उसकी मौत हो गयी है और आप अंदर जाकर उस व्यक्ति से अंतिम बार मिल सकते हैं”

सारे लोगों को ये बात जानकर बड़ी ही खुशी हुई कि चलो जो व्यक्ति हमारे विकास को रोक रहा था वो मर चुका है लेकिन इस बात का दुःख भी था कि अपने साथ का एक कर्मचारी अब नहीं रहा।

अब सबके मन में एक ही सवाल आ रहा था कि वो व्यक्ति आखिर है कौन जो हमें आगे बढ़ने से रोक रहा था और आज उसकी मृत्यु हो गई है। इसी उधेड़बुन में एक एक करके लोग अंदर जाने लगे।

अब जैसे ही वो एक एक करके अंदर गए, अंदर का नजारा देख कर वो अवाक् रह गए , मुंह से एक शब्द भी नहीं निकल पाया। अंदर कुछ नहीं था, वहां केवल एक शीशा लगा हुआ था जिसके नीचे एक छोटा सा नोट लिखा हुआ था कि – केवल आप ही वो इंसान हैं जिसने अपनी क्षमता के दायरे को छोटा बनाया हुआ है, आप खुद अपने सुख, दुःख, सफलता , असफलता के जिम्मेदार हैं।

कंपनी बदलने, अपने बॉस बदलने या दोस्तों को बदलने से आपकी जिंदगी कभी नहीं बदलेगी। अपनी जिंदगी बदलनी है तो खुद को बदलना होगा, अपनी क्षमता को पहचानना होगा, अपने मन में जो छोटे दायरे बना लिए हैं उस दायरे से बाहर निकलना होगा। फिर देखिए एक दिन पूरी दुनिया आपको सलाम करेगी।

जब एक अंडा बाहर से फूटता है तो एक जिंदगी का अंत होता है लेकिन जब वही अंडा अंदर से फूटता है तो एक नयी जिंदगी का जन्म होता है। अपने अंदर की शक्तियों को जगाओ, आप अपार क्षमतावान हो।

आप असफल हो तो इसके जिम्मेदार भी खुद ही हो। खुद को कोसना और दूसरों को दोष देना बंद करो और पूरी मेहनत से जुट जाओ जैसे एक नया जन्म मिला हो।

दोस्तों हिंदीसोच पर हम प्रैक्टिकल लाइफ से सम्बंधित लेख लिखने की कोशिश करते हैं जिन्हें पढ़कर हर इंसान कुछ ना कुछ सीख सके और खुद में सुधार कर सके। आपको ये आर्टिकल कैसा लगा ये बात आप हमें कमेंट करके जरूर बताएँगे ऐसी हमारी आपसे आशा है।

धन्यवाद!!!!!

loading...

सभी पोस्ट ईमेल पर पाने के लिए अभी Subscribe करें :

सब्क्रिप्सन फ्री है

***** समस्त हिन्दी कहानियों का सॅंग्रह ज़रूर पढ़ें ******

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 Comments

  1. vinay July 21, 2016
    • Pawan Kumar July 21, 2016
  2. Sonu Gupta July 21, 2016
    • Pawan Kumar July 21, 2016
  3. priyanka July 21, 2016
    • Pawan Kumar July 21, 2016
  4. Rajeev kumar July 21, 2016
    • Pawan Kumar July 22, 2016
  5. Manish July 22, 2016
    • Pawan Kumar July 22, 2016
  6. devkumar verma July 22, 2016
  7. Sushanta Kumar pandey July 23, 2016
  8. faieem July 26, 2016
  9. manju August 11, 2016
  10. mohd Hussain August 29, 2016
  11. santosh rajput August 31, 2016
  12. krishna das mahant September 1, 2016
  13. rinku September 17, 2016
  14. Yogendra kumar sharma December 5, 2016