जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

नकारात्मकता से बचने के उपाय, How to Overcome Negative Thoughts in Hindi

हम सब की जिंदगी एक गाड़ी की तरह है और इस गाड़ी का शीशा हमारी सोच, हमारा व्यवहार, हमारा नजरिया है।

बचपन में तो यह शीशा बिल्कुल साफ़ होता है, एकदम क्लियर। लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते है। हमारे आस-पास के लोगो की वजह से, हमारे वातावरण की वजह से, हमारे अपनों की वजह से हमारा खुद के बारे में विश्वास बदलता जाता है।

मतलब इस शीशे पे लोगो की वजह से, वातावरण की वजह से, अपनी वजह से धूल, मिटटी, कचरा जमता जाता है। और इस धूल से भरे, मिटटी से भरे, कचरे से भरे शीशे को हमने अपनी हकीकत मान ली है। कहीं न कहीं हम उस शीशे को साफ़ करना भूल गये हैं।

हम कुछ मान कर बैठे है, कुछ इछाओ के सामने हार मान ली है, कुछ सपनों को हमने छोड़ दिया है। कुछ बातो को हमने मान लिया है।

जैसे किसी को लगता है कि मैं बिज़नस नहीं कर सकता हु क्योंकि मेरे पास पैसे नहीं हैं(खुद का बनाया हुआ विश्वास)।

किसी को लगता है कि मैं अछे मार्क्स नहीं ला सकता क्योंकि मैं हमेशा एक एवरेज स्टूडेंट रहा हु तो यह है खुद का बनाया हुआ विश्वास उस शीशे को कभी साफ करने की कोशिश नहीं की, उस विश्वास को कभी तोड़ने की कोशिश नहीं की।

कोई कहता है:
मैं अच्छा सेल्समेन नहीं बन सकता क्योंकि मेरा बात करने का तरीका अच्छा नहीं है, मैं बिजनेसमैन नहीं बन सकता, मैं एक अच्छा पति नहीं बन सकता, मैं एक अच्छा अध्यापक नहीं बन सकता।

मुझे एक एवरेज लाइफ ही बितानी है क्योंकि मेरे में कुछ खास नहीं है, मैं अमीर नहीं हो सकता क्योंकि मेरी किस्मत ख़राब है, मैं बड़ा नहीं सोच सकता क्योंकि बड़ा सोचना वास्तविक नहीं होता।

यह आपकी सोच का शीशा है न, ये ख़राब इसलिए है क्योंकि आपने इसे ख़राब होने दिया है।

बचपन में यह शीशा सबका साफ़ होता है। जब आपने चलने की कोशिश की थी, जब चलना शरू किया था तो आप गिरे थे और गिरने के बाद आपने किसी पर आरोप नहीं लगाया था, बहाने नहीं बनाये थे। आपने यह नहीं कहा था कि मैं इसलिए गिर गया क्योंकि कारपेंटर अच्छा नहीं है, मैं इस लिए गिर गया क्योंकि इसमें सीढियों का कसूर है या फिर अपने मम्मी-पापा के ऊपर ऊँगली नहीं की थी कि मैं इस लिए नहीं चल पाया या इस लिए गिर गया क्योंकि इनको मुझे सिखाना नहीं आया, ये मुझे चलना नहीं सिखा पाए।

जब आप गिरे आपने फिर से उठने की कोशिश की, फिर गिरे और फिर उठे और तब तब कोशिश करते रहे जब तक आप सफल नहीं हुए, जब तक आप चलना सीख नहीं पाए।

यार तब किसी को दोषी क्यों नहीं ठहराया, तब बहाने क्यों नहीं मारे बताओ तब क्या हुआ था?

और अगर तब नहीं किया तो अब क्यों?

सोचो….!! क्योंकि तब आपकी सोच का शीशा बिलकुल साफ़ था। वो बहाने नहीं ढूढता था, वो लोगो को बातो में नहीं आता था बस वो अपने आप को दुसरो से कम नही समझता था इसलिए वो कभी हार नहीं मानता था और तब तक कोशिश करता था जब तक आपको सक्सेस नहीं मिलता।

और फिर?

फिर आप बड़े होते गये। लोगो की बातो का आप पर असर होता गया। आस पास के नकारात्मक (नेगेटिव) माहौल का आप पर असर होता गया। लोगो की बताई बातें, लोगो की फेंकी हुई मिट्टी, कचरे और धूल की वजह से आपकी सोच का शीशा गन्दा होता गया और आपकी गाड़ी की स्पीड कम होती गई और अब आप देख भी नहीं पा रहे। आप ढंग से देख भी नही पा रहे अपनी योग्यता को, अपनी क्षमता को और जितना देख पा रहे हो उसी को अपनी जिंदगी समझ रहे हो। उसी को अपनी क्षमता समझ रहे हो।

अब मेरी बात सुनो अगर सच में, सच में अपनी जिदगी को बदलना चाहते हो, सच में अपने सपने को पूरा करना चाहते हो तो एक बार इस धूल को इस मिट्टी को हटा कर तो देखो। एक बार इस शीशे को साफ़ करके तो देखो ये लोगो की वजह से आई हुई मिट्टी है ये हट सकती है और आपकी जिंदगी बदल सकती है।

बस एक बार विश्वास करके इस शीशे को साफ़ करके एक बार खुद को जान कर पहचान कर खुद पर भरोसा करके देखो। आपके सपने पूरे होगे क्योंकि आपके पास उसको पूरा करने की क्षमता है, आप उसको पूरा करने के योग्य हो।

अब यह मैं नहीं कर सकता? मैं कैसे कर सकता हूँ? इस सोच बदल दो फिर देखना कैसे समस्या के हल मिलेगे।

जैसे: मैं एक अच्छा स्टूडेंट नहीं बन सकता। इसको बदलो कि मैं एक अच्छा स्टूडेंट कैसे बन सकता हु। फिर मिलेगे आपको हल, आईडिया आने शुरू हो जायेंगे|

मैं एक अच्छा मैनेजमेंट, अच्छा सेल्समेन नहीं बन सकता को बदलो कि मैं एक अच्छा मेनेजर या सेल्समेन कैसे बन सकता हु। वो विश्वास रखो और फिर देखना कैसे आपको हल मिलना शुरू होगे।

जब आपके अन्दर विश्वास होगा कि मैं इसे कर सकता हूँ। मुझे ये करना है, कैसे करना है अपने आप हल मिलेगे।

आज के बाद कोई भी बात आपके दिमाग में आये तो नेगेटिव होने की जगह उस शीशे के ऊपर लगे कचरे को देखने कि जगह उस कचरे को साफ़ करो। यह मत सोचो में नहीं कर सकता सोचो कि मैं कैसे कर सकता हु? मुमकिन कैसे होगा?

फिर देखना आपको हर बात पे हल मिलना शुरू हो जायेंगे। गाडी का शीशा और साफ़ होता जाएगा, रास्ता और साफ़ होता जाएगा और आपके गाडी की स्पीड बढती जाएगी-बढती जाएगी, जिंदगी का विकास बढ़ता जाएगा, जिंदगी में कामयाबी मिलती जाएगी।

तो आज के बाद वादा करो की आप सोच के शीशे पे मिट्टी नहीं जमने दोगे। कचरा नहीं जमने दोगे। खुद के साथ वो वादा कर लो की आप अपने आप पर पूरा भरोसा रखोगे। एक वादा कर लो की आप बहाना ढूंढने के बजाए हल निकालोगे। इस पोस्ट के निचे कमेंट में लिख दो कि हम आज के बाद अपनी सोच के शीशे को साफ़ रखेगे। लोगो की बातो की वजह से, माहोल की वजह से, नेगेटिव लोगो की वजह से उस के ऊपर मिट्टी नहीं जमने देगे, कचरा नहीं जमने देगे।

बस वो वादा कर लो अपने साथ कि आप खुद पर पूरा भरोसा रखोगे वो भी 10% नहीं 30% नहीं 99% भी नहीं 100% विश्वास खुद पे, 100% कॉन्फिडेंस खुद पे, 100% यकीन खुद पे।

जाओ और अपनी जिंदगी जिओ…. [All The Best..]

loading...

सभी पोस्ट ईमेल पर पाने के लिए अभी Subscribe करें :

सब्क्रिप्सन फ्री है

***** समस्त हिन्दी कहानियों का सॅंग्रह ज़रूर पढ़ें ******

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

108 Comments

  1. Priyank Parmar
  2. PRABHAT
  3. Abhishek
  4. Pankaj
  5. atul
  6. AVINASH PRASAD
  7. Abhishek Aggarwal
  8. Abhishek kumar giri
  9. rahul patidar
  10. Rohit lewa
  11. arjun
  12. Raghavendra Singh
  13. Gyanendra Tiwari
  14. suraj
  15. Kapil
  16. आशीष
  17. Rahul Devdas
  18. satyam
  19. yogesh bansal
  20. Keyur Patel
  21. Jitendra Pokharkar
  22. Indrajeet singh maurya
  23. ankita verma
  24. hanuman yadav
  25. ASHISH MUKHERJEE
  26. Ishtiyak Ali
  27. vikash
  28. Gourav Sharma
  29. Varun
  30. pappu
  31. Harman bajwa
  32. Aman jaiswal
  33. manisha chouhan
  34. PAWAN MANDHOTRA
  35. Sonu
  36. mithlesh
    • soorajkumar saini
    • Shiva
  37. Indrajeet Thakur
  38. Shiva yadav
  39. shivam kumar
  40. dhawal upadhyay
  41. Priyanka jyoti phukan
  42. ashok bhardwaj
  43. Aryan kumar
    • piyush ranjan
  44. Abhijeet Mitra
  45. Harpreet Stari
  46. Harpreet Stari
  47. ambuj
  48. Nancy Shukla
  49. Rajat
    • Sarfe alam
  50. devkumar verma
    • RAGHAV KUMAR
  51. faheem
  52. lal bahadur yadav
  53. vivek shukla
  54. Ravi birat
  55. mith
  56. sunil
  57. Rajeev kumar
  58. Shrikrishna
  59. Shivam Rawat
  60. Pankaj
  61. saurabh
  62. lata
  63. TEJPAL SINGH
  64. Amarjeet rikyasan
  65. mayank
  66. yogesh pravin ghule
  67. yogesh pravin ghule
  68. ashish agarwal
  69. md azeem uddin
  70. FAIEEM
  71. sarika
  72. pramod thakur
  73. himanshu kumar
  74. rahul sinha
  75. Dharmendra prajapati
  76. Vikash bhardwaj
  77. shankar
  78. hem chandra fulara
    • hem chandra fulara
  79. rajpati kumar
  80. Sachin Trivedi
  81. sachin
  82. Ashish kumar Rauniyar
  83. shrikrishna khanna
  84. Ankit kumar
  85. Deelip Kumar yadav
  86. Neeraj
  87. Pintesh Patel
  88. Pankaj mosti
  89. Poonam
  90. sanjana
  91. vishal kumar sinha
  92. Bhardwaj UP
  93. motilal yadav
  94. Jeet soni
  95. prashant
  96. Sumit Nain
  97. ravinder
  98. Manish
  99. laxmilal menaria
  100. Ramavtar baghel saipau dholpur rajstnan