जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

Hindi Muhavare with Meanings – हिंदी मुहावरे और अर्थ

मुहावरे और उनके अर्थ

अजगर करे ना चाकरी पंछी करे ना काम,
दास मलूका कह गए सब के दाता राम….

अर्थ – अजगर को किसी की नौकरी नहीं करनी होती और पक्षी को भी कोई काम नहीं करना होता, ईश्वर ही सबका पालनहार है, इसलिए कोई भी काम मत करो ईश्वर स्वयं देगा। आलसी लोगों के लिए श्री मलूकदास जी का ये कथन बहुत ही उचित है !

अधजल गगरी छलकत जाय।

अर्थ – जो व्यक्ति बहुत कम जानता है, वह विद्वान ही होने का दिखावा ज़्यादा करता है।

अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनाना।

अर्थ – अपनी बड़ाई आप ही करना।

अब पछताए होत क्या जब चिडिया चुग गई खेत।

अर्थ – समय रहते काम ना करना और नुक़सान हो जाने के बाद पछताना। जिससे कोई लाभ नहीं होता है।

अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई॥

अर्थ – परिश्रम कोई व्यक्ति करे और लाभ किसी दूसरे को हो जाए।

अंत भला तो सब भला।

अर्थ – परिणाम अच्छा हो जाए, तो सभी कुछ अच्छा मान लिया जाता है।

अढ़ाई दिन की बादशाहत।

अर्थ – थोड़े दिन की शान-शौक़त।

अन्‍न जल उठ जाना।

अर्थ – किसी जगह से चले जाना।

अन्‍न न लगना।

अर्थ – खा-पीकर भी मोटा न होना।

अपना-अपना राग अलापना।

अर्थ – अपनी ही बातें कहना।

अपना उल्‍लू सीधा करना।

अर्थ – अपना मतलब निकालना।

अपना सा मुँह लेकर रह जाना।

अर्थ – लज्जित होना।

अपनी खिचड़ी अलग पकाना।

अर्थ – अलग-थलग रहना।

अपने पांव पर आप कुल्‍हाड़ी मारना।

अर्थ – अपना अहित स्वयं करना।

अपने पैरों पर खड़ा होना।

अर्थ – स्‍वावलंबी होना।

अपने में न होना।

अर्थ – होश में न होना।

अंधेर नगरी चौपट राजा,
टके सेर भाजी टके सेर खाजा।

अर्थ – जहाँ मुखिया ही मूर्ख हो, वहाँ अन्याय होता ही है।

अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता।

अर्थ – अकेला व्यक्ति बड़ा काम नहीं कर सकता।

अकेला हँसता भला न रोता भला।

अर्थ – सुख-दु:ख में साथी की आवश्यता पड़ती है, व्यक्ति ना अकेला रो सकता है और ना ही अकेला हँस सकता है।

अक्ल बड़ी या भैंस।

अर्थ – शारीरिक शक्ति का महत्त्व कम होता है, बुद्धि का अधिक।

अच्छी मति जो चाहो, बूढ़े पूछन जाओ।

अर्थ – बड़े–बूढ़ों की सलाह से कार्य सिद्ध हो जाते हैं, क्योंकि उनका अनुभव काम आता है।

अब के बनिया देय उधार।

अर्थ – अपनी ज़रुरत आ पड़ती है, तो आदमी सब कुछ मान जाता है, हर शर्त स्वीकार कर लेता है।

अटकेगा सो भटकेगा।

अर्थ – दुविधा या सोच–विचार में पड़ जाते हैं, तो काम अधूरा ही रह जाता है।

अपना-अपना कमाना, अपना-अपना खाना।

अर्थ – किसी के साथ साझा करना अच्छा नहीं होता।

अपना रख पराया चख।

अर्थ – अपनी चीज़ सम्भाल कर रखना और दूसरों की चीज़ को इस्तेमाल करना।

गधे को बाप बनाना

अर्थ – स्वार्थ के लिए व्यक्ति को छोटे आदमी की खुशामद भी करनी पड़ती है।

अपनी गली में कुत्ता भी शेर।

अर्थ – व्यक्ति का अपने घर में ही ज़ोर होता है।

अपनी गाँठ पैसा तो, पराया आसरा कैसा।

अर्थ – आदमी स्वयं समर्थ हो तो किसी दूसरे पर आश्रित क्यों रहेगा।

अपनी चिलम भरने को मेरा झोपड़ा जलाते हो।

अर्थ – अपने ज़रा से लाभ के लिए किसी दूसरे की बड़ी हानि करना।

अपनी नींद सोना, अपनी नींद जागना।

अर्थ – पूर्ण रूप से स्वतंत्र होना।

अपनी पगड़ी अपने हाथ,

अर्थ – अपनी इज्जत अपने हाथ होना।

अभी तो तुम्हारे दूध के दाँत भी नहीं टूटे।

अर्थ – अभी तो तुम्हारी उम्र कम है और अभी तुम बच्चे हो और नादान और अनजान हो।

अभी दिल्ली दूर है।

अर्थ – अभी कसर बाकी है, अभी काम पूरा नहीं हुआ।

अरहर की टट्टिया, गुजराती ताला।

अर्थ – मामूली वस्तु की रक्षा के लिए इतना बड़ा इन्तज़ाम।

अक्‍ल के पीछे लट्ठ लिए फिरना।

अर्थ – मूर्खता का काम करना।

अक्‍ल पर पत्‍थर/परदा पड़ना।

अर्थ – समझ न रहना।

आसमान से गिरा खजूर में अटका।

अर्थ – एक मुसीबत से निकलकर दूसरी मुसीबत में फंस जाना।

आस-पास रबी बीच में खरीफ।
नोन-मिर्च डाल के, खा गया हरीफ।।

अर्थ – खरीफ की फ़सल के बीच में रबी की फ़सल अच्छी नहीं होती है।

आँख के अंधे नाम नैनसुख।

अर्थ – नाम बड़ा होना और व्यक्ति का व्यवहार और गुण उसके विपरीत होना।

आटे के साथ घुन भी पिसता है।

अर्थ – दोषी व्यक्ति के साथ निर्दोष व्यक्ति भी मारा जाता है।

आम के आम गुठलियों के दाम।

अर्थ – दोहरा लाभ होना।

आँख और कान में चार अंगुल का फ़र्क़।

अर्थ – आँखों देखी बात का विश्वास करना, कानों से सुनी बात का नहीं।

आस्तीन का साँप।

अर्थ – विश्वासघाती मित्र।

आग खाएगा तो अंगार उगलेगा

अर्थ – बुरे काम करने का बुरा फल ही मिलता है।

आग बिना धुआँ नहीं।

अर्थ – हर चीज़ का कारण अवश्य ही होता है।

आधा तीतर आधी बटेर।

अर्थ – बेमेल चीज़ों का सम्मिश्रण होना।

आधी छोड़ पूरी को धावे, आधी रहे ना पूरी पावे।

अर्थ – अधिक लालच करने से हानि ही होती है।

आप भला तो जग भला।

अर्थ – भले आदमी को सब लोग भले ही मिलते हैं।

आए थे हरि भजन को ओटन लगे कपास।

अर्थ – उच्च लक्ष्य लेकर चलना पर कोई घटिया सा काम करने लगना।

आसमान का थूका मुँह पर आता है।

अर्थ – बड़े लोगों की निंदा करने से अपनी ही बदनामी होती है।

आकाश चूमना।

अर्थ – बुलन्द होना।

आग बबूला होना।

अर्थ – बहुत गुस्सा होना।

आसमान सिर पर उठाना।

अर्थ – बहुत हो-हल्ला मचाना।

आड़े हाथों लेना।

अर्थ – बातों से लज्जित कर देना।

आपे से बाहर होना।

अर्थ – क्रोध से अपने वश में न रहना।

आव न देखा ताव।

अर्थ – बिना कारण।

आवाज़ उठाना।

अर्थ – विरोध प्रकट करना।

आसमान टूट पड़ना।

अर्थ – अचानक विपत्ति आ पड़ना।

इधर कुआँ उधर खाई।

अर्थ – हर हाल में मुसीबत का आना।

इस हाथ ले उस हाथ दे।

अर्थ – कर्म का फल तुरंत ही मिलता है।

इधर- उधर की हाँकना।

अर्थ – व्यर्थ की बातें करना।

इधर की उधर लगाना / करना।

अर्थ – चुगली करके भड़काना।

इशारों पर नाचना।

अर्थ – किसी की इच्छाओं का तुरंत पालन करना।

ईद का चाँद।

अर्थ – बहुत दिनों के बाद दिखाई देने वाले (व्यक्ति) को ईद का चाँद कहा जाता है।

ईंट का जवाब पत्थर से देना।

अर्थ – किसी के आरोपों का करारा जवाब देना।

ईंट से ईंट बजाना।

अर्थ – विनाश करना।

उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे।

अर्थ – दोषी होने पर भी दूसरे को दोषी बताना।

उलटी गंगा पहाड़ चली।

अर्थ – असंभव या विपरीत बात होना, असंभव काम करने की कोशिश करना।

उलटे बाँस बरेली को।

अर्थ – विपरीत कार्य करना, असंभव काम करने की कोशिश करना।

उँगलियों पर नाचना।

अर्थ – किसी की इच्छाओं का तुरंत पालन करना।

उँगली उठाना।

अर्थ – निंदा करना।

उगल देना।

अर्थ – भेद खोल देना।

उड़न छू होना।

अर्थ – गायब हो जाना।

उन्नीस-बीस होना।

अर्थ – बहुत थोड़ा अन्तर होना।

उल्टी पट्टी पढ़ाना।

अर्थ – ग़लत कहकर बहकाना।

ऊँट के मुंह में ज़ीरा होना।

अर्थ – आवश्यकता से बहुत कम होना।

ऊँची दुकान फीका पकवान।

अर्थ – जहाँ बाहरी दिखावा अधिक हो और गुणकर्म बहुत ही कम हो।

एक पंथ दो काज

अर्थ – एक काम के प्रयत्न से दो काम पूरे होना।

एक करेला, दूसरे नीम चढ़ा।

अर्थ – एक दोष होने के साथ ही साथ दूसरा दोष भी होना।

एक अनार सौ बीमार।

अर्थ – चीज़ का कम होना और चाहने वाले ज़्यादा होना।

एक और एक ग्यारह होते हैं।

अर्थ – एकता में बल होता है।

एक गंदी मछली सारे तालाब को गंदा कर देती है।

अर्थ – एक बुरा आदमी सारी बिरादरी की बदनामी कराता है।

एक तो चोरी दूसरे सीना-जोरी।

अर्थ – कोई अपराध करके अपराध न मानना और उल्टे रौब गाँठना।

एक मुँह दो बातें।

अर्थ – अपनी बात से पलट जाना।

एक म्यान में दो तलवारें नहीं समा सकती।

अर्थ – समान अधिकार वाले दो व्यक्ति एक ही क्षेत्र में नहीं रह सकते हैं

एक हाथ से ताली नहीं बजती।

अर्थ – झगड़े के लिए दोनों पक्ष जिम्मेदार होते हैं, एक के झगड़ा करने से झगड़ा नहीं होता है।

एक ही लकड़ी से सबको हाँकना।

अर्थ – छोटे- बड़े का ध्यान न रखकर सबके साथ एक जैसा ही व्यवहार करना।

एक आँख से देखना।

अर्थ – सबको बराबर समझना।

एक-एक नस पहचानना।

अर्थ – सब कुछ समझना।

एक ही थैली के चट्टे-बट्टे।

अर्थ – एक जैसे चरित्र और विचार के लोग।

एडि़याँ रगड़ना।

अर्थ – बहुत दौड़-धूप करना।

एड़ी-चोटी का पसीना एक करना।

अर्थ – घोर परिश्रम करना।

ऐसी की तैसी करना।

अर्थ – दुर्दशा करना

ओखली में सिर दिया तो मूसल का क्या डर।

अर्थ – यदि कठिन कार्य हाथ में ले लिया है तो कठिनाइयों से नहीं डरना चाहिए।

ओस चाटे प्यास नहीं बुझती।

अर्थ – बहुत थोड़ी सी वस्तु‍ से आवश्यकता की पूर्ति नहीं होती है।

ओखली में सिर देना।

अर्थ – जोखिम मोल लेना।

आँख का तारा।

अर्थ – बहुत प्यारा।

आँखें चार होना।

अर्थ – आमने-सामने होना।

कैसे लगे आपको ये मुहावरे और कहावतें? यूँ तो कहावतें और भी बहुत हैं लेकिन यहाँ हमने केवल वही कहावतें लिखी हैं जिन्हें लोग अक्सर बोलते हैं और आम भाषा में प्रयोग करते हैं। भाषा में मुहावरों का उपयोग करना, हमारी भाषा में चार चाँद लगा देता है। अगर आप भी कोई और मुहावरे जोड़ना चाहते हैं तो comment में लिखकर भेज दें हम उन्हें भी पब्लिश कर देंगे। और हाँ comment जरूर करिये, दरअसल आपके कमेंट्स से ही हमें पता चलता है कि आपने इस लेख को कितना पसंद किया है। हिंदीसोच को subscribe करना ना भूलें, subscribe करने से आपको हम सारे लेख आपके ईमेल पर भेज देंगे- Subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One Response

  1. sanjay singh