जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

सफलता का गुरु मंत्र- उड़ना है तो गिरना सीख लो

दोस्तों आज मैं आपको सबसे बड़ा सफलता का गुरु मंत्र (guru mantra) बताने जा रहा हूँ। ये एक ऐसा गुरु मंत्र है जिसे अगर आपने अपनी जिंदगी में ढाल लिया तो दुनिया की कोई ताकत आपको सफल होने से नहीं रोक सकती।

एक चिड़िया का बच्चा जब अपने घोंसले से पहली बार बाहर निकलता है तो उसके पंखों में जान नहीं होती। वो उड़ने की कोशिश करता है लेकिन जरा सा उड़कर गिर जाता है। वह फिर से दम भरता है और फिर से उड़ने की कोशिश करता है लेकिन फिर गिरता है।

वो उड़ता है और गिरता है। यही क्रम निरंतर चलता जाता है। एक बार नहीं, दो बार नहीं बल्कि हजारों बार वो गिरता है लेकिन वो उड़ना नहीं छोड़ता और एक समय ऐसा भी आता है जब वो खुले आकाश में आनंद से उड़ता है।

मेरे दोस्त जिंदगी में अगर उड़ना है तो गिरना सीख लो क्योंकि आप गिरोगे, एक बार नहीं बल्कि कई बार। आपको गिरकर फिर उठना है और फिर उड़ना है।

याद करो वो बचपन के दिन, जब बच्चा छोटा होता है तो वो चलने की कोशिश करता है। पहली बार चलता है तो गिरता है, आप भी गिरे होंगे। एक बार नहीं, कई बार, और कई बार तो बच्चों को चोट भी लग जाती है। किसी का दांत टूट जाता है, तो किसी के घुटने में चोट लग जाती है और कई बार तो सर से खून तक निकल आता है, पट्टी बांधनी पड़ती है।

लेकिन वो बच्चा चलना नहीं छोड़ता। सर पे पट्टी बंधी है, चोट लगी है, दर्द भी हुआ है लेकिन माँ की नजर बचते ही वो फिर से चलने की कोशिश करता है। उसे गिरने का डर नहीं है और ना ही किसी चोट का डर है, उसको चलना सीखना है और वो तब तक नहीं मानता जब तक चल ना ले।

सोचो उस बच्चे में कितनी हिम्मत है, उसके मन में एक लक्ष्य है – “चलना सीखना”। और वो चलना सीख भी जाता है क्योंकि वो कभी गिरने से डरता ही नहीं है।

लेकिन जब यही बच्चा बड़ा हो जाता है, उसके अदंर समझ आ जाती है तो वो डरने लगता है। इंसान जब भी कोई नया काम करने की कोशिश करता है उसके मन में गिरने का डर होता है।

=> स्टूडेंट डरता है कि पहला इंटरव्यू है, नौकरी लगेगी या नहीं लगेगी….
=> बिजनेसमैन डरता है कि नया बिजनिस कर तो लिया लेकिन चलेगा या नहीं चलेगा….
=> क्रिकेटर सोचता है कि मेरा पहला मैच है रन बना पाउँगा या नहीं बना पाउँगा…

अरे नादान मानव, तुमसे ज्यादा साहसी तो वो बच्चा है जो हजार बार गिरकर भी गिरने से नहीं डरता। सर से खून भी आ जाये तो भी नन्हें कदम फिर से चलने की कोशिश करते हैं। और एक तुम तो हो, थोड़े समझदार क्या हुए, तुम तो नासमझ हो गए।

दुनिया में कोई भी इंसान इतनी आसानी से सफल नहीं होता, ठोकरें खानी पड़ती हैं। अब ठोकरों से डरोगे तो कभी सफल नहीं हो पाओगे। राह में चाहे जितनी ठोकरें आयें आप अपने लक्ष्य को मत छोड़ो। ये ठोकरें तो आपकी परीक्षा लेती हैं, आपके कदम को मजबूत बनाती हैं ताकि जिंदगी में फिर कभी ठोकर ना खानी पड़े।

दोस्तों मुझे पता है आपको ये सब पढ़कर बहुत अच्छा लगा होगा लेकिन आपके मन में अभी भी कई सवाल आ रहे होंगे और अभी भी काफी doubt होंगे। तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है, आप नीचे लगे कमेंट बॉक्स में जाकर अपना सवाल हमसे पूछिये। हम आपकी मदद करने की पूरी कोशिश करेंगे और हाँ एक बात मन में गाँठ बांध लो कि “उड़ना है तो गिरना पड़ेगा”…

धन्यवाद!!!

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

84 Comments

  1. Yogesh
  2. Vishnu Kant Maurya
  3. Bhushan
  4. Asween
  5. bhupender
  6. vivek
  7. bhagat
  8. firdous Ahmed
      • praveen
  9. praveen
  10. Babita Singh
  11. deepak
  12. Suraj
  13. Haidar Khan
  14. nikki
      • Nikki
  15. shivnandan kumar gupta
  16. vijay
  17. SHREEKANT
  18. Indrajeet Thakur
  19. RAJKUMARI SIGH
    • RAJKUMARI SIGH
  20. Ranjeet
  21. pravin
  22. AMANDEEP KAUR
  23. jhanvi rajpoot
  24. Deepa Chandwani
  25. Ankur Rathi
  26. Anoop Singh
  27. SANTOSH SAHOO
  28. ugrasen mehta
  29. Virendra kr
    • Pawan Kumar
  30. veenu
  31. rakesh kumar
  32. patadiya mehul
  33. Guddu
  34. ramlal
  35. ramlal
  36. Raj sarma
  37. Vaib
  38. ramji gupta
  39. Sona Mukherjee
  40. Binit
  41. Deepika
  42. Meraj
  43. Pravin Girhepuje
  44. VARSHA
    • Pawan Kumar
  45. Manojrai
  46. Ashwini
  47. PUSHPENDRA KUSHWAHA
  48. avyan Tripathi
  49. Ritesh Malviya
  50. vipul kumar
  51. Nitin