जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

Short Desh Bhakti Poem in Hindi | देशप्रेम पर 4 कविताएं

इस लेख में आप Desh Bhakti Poem in Hindi पढ़ेंगे और ये सभी Patriotic Poems देशप्रेम की भावना पर आधारित हैं| समस्त भारतवासियों के लिए स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाओं सहित कुछ देशभक्ति कवितायेँ हम शेयर कर रहे हैं| यह कवितायेँ प्रसिद्ध कवियों द्वारा लिखीं गयी हैं| इनमें से कई कवितायेँ आपने बचपन में भी सुनी होंगी|

हम भारतवासियों में अपने देश के प्रति जो प्रेम की भावना कूट कूट कर भरी है, यही भावना ही हमारे देश को दूसरे देशों से महान बनाती है| इस भारतवर्ष की पवित्र भूमि पर देवता भी जन्म लेने को तरसते हैं|

धन्य हैं हम लोग जो हमने इस जमीं पर जन्म लिया और हमें गर्व है इस बात पर कि हम सब भारतवासी हैं| अपने देश की आन, बान और शान के लिए हम अपने प्राणों को न्यौछावर करने को सदैव तैयार रहते हैं| मेरा देश महान है, मेरा भारत महान है| आइये आज स्वतंत्रता दिवस की पावन वेला पर हम फिर से कुछ कविताओं को पढ़ते हैं-

Desh Bhakti Poems in Hindi

Desh Bhakti Poems in Hindi

Most Popular Desh Bhakti Poem

सारे जहाँ से अच्छा
हिंदुस्तान हमारा
हम बुलबुलें हैं उसकी
वो गुलसिताँ हमारा।
परबत वो सबसे ऊँचा
हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा
वो पासबाँ हमारा।

गोदी में खेलती हैं
जिसकी हज़ारों नदियाँ
गुलशन है जिनके दम से
रश्क-ए-जिनाँ हमारा।

मज़हब नहीं सिखाता
आपस में बैर रखना
हिंदी हैं हम वतन है
हिंदुस्तान हमारा।

– मुहम्मद इक़बाल

 

Desk Bhakti Hindi Poems and Kavita

Desk Bhakti Hindi Poems and Kavita

Hindi Desh Bhakti Kavita

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा
वो भारत देश है मेरा
जहाँ सत्य, अहिंसा और धर्म का पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा

ये धरती वो जहाँ ऋषि मुनि जपते प्रभु नाम की माला
जहाँ हर बालक एक मोहन है और राधा हर एक बाला
जहाँ सूरज सबसे पहले आ कर डाले अपना फेरा
वो भारत देश है मेरा

अलबेलों की इस धरती के त्योहार भी हैं अलबेले
कहीं दीवाली की जगमग है कहीं हैं होली के मेले
जहाँ राग रंग और हँसी खुशी का चारों ओर है घेरा
वो भारत देश है मेरा

जब आसमान से बातें करते मंदिर और शिवाले
जहाँ किसी नगर में किसी द्वार पर कोई न ताला डाले
प्रेम की बंसी जहाँ बजाता है ये शाम सवेरा
वो भारत देश है मेरा

– राजेंद्र किशन

 

Hindi Desh Bhakti Poem

Hindi Desh Bhakti Poem

Desh Bhakti Hindi Poem

होंगे कामयाब,
हम होंगे कामयाब एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
हम होंगे कामयाब एक दिन।
हम चलेंगे साथ-साथ
डाल हाथों में हाथ
हम चलेंगे साथ-साथ, एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
हम चलेंगे साथ-साथ एक दिन।

होगी शांति चारों ओर, एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
होगी शांति चारों ओर एक दिन।

नहीं डर किसी का आज एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
नहीं डर किसी का आज एक दिन।

– गिरिजा कुमार माथुर

 

Patriotic Hindi Desh Bhakti Poem

Patriotic Hindi Desh Bhakti Poem

जन गण मन अधि नायक जय हे!
भारत भाग्य विधाता
पंजाब सिंध गुजरात मराठा,
द्राविण उत्कल बंग।

विंध्य हिमाचल यमुना गंगा,
उच्छल जलधि तरंग
तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष मागे,
गाहे तव जय-गाथा।

जन-गण-मंगलदायक जय हे!
भारत भाग्य विधाता।
जय हे! जय हे! जय हे!
जय जय जय जय हे!

– रवींद्र नाथ ठाकुर

ये भी पढ़ें –
देशभक्ति कविता – चन्द्रशेखर आजाद
50 देश भक्ति शायरी
Independence Day Quotes in Hindi
ऐ मेरे वतन के लोगों

ये सभी Desh Bhakti Poems in Hindi फेसबुक ट्विटर पर शेयर करें और अपने बच्चों, सगे सम्बन्धियों को भी पढ़ायें| हमसे जुड़े रहिये और नयी जानकारियां अपने ईमेल पर प्राप्त करने के लिए हमें सब्स्क्राइब करें..Subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + five =

2 Comments

  1. हरिराज