जिंदगी बदलने वाली कहानियां=>यहाँ क्लिक करें

क्या दान करने से भी मिल सकता है पाप ?

दान का पाप

कबीर दास जी के जीवन का एक प्रसंग है। संत कबीर अपनी रोजी रोटी चलाने के लिए कपड़े बुना करते थे। एक बार दोपहर के समय जब कबीर दास जी कपड़े बुनने में लीन थे तभी उनके द्वार पर एक भिखारी आया। भिखारी बड़ा ही भूखा प्यासा मालूम होता था।

भिखारी को देखकर कबीर दास जी को बड़ी दया आयी और उन्होंने उसे ठंडा पानी पिलाया। भिखारी कई दिन से भूखा था इसलिए उसने कबीर जी से कुछ खाने को माँगा। उस समय कबीर दास जी के पास खाने की कोई सामग्री नहीं थी।

कुछ सोचकर कबीर दास जी ने कहा कि मित्र मेरे पास तुमको खिलाने को भोजन तो नहीं है, तुम मेरा ये ऊन का गोला ले जाओ और इसे बेचकर अपने लिए भोजन का इंतजाम कर लेना।

भिखारी ऊन का गोला लेकर चला गया। रास्ते में उसे एक तालाब दिखा, भिखारी ने ऊन का गोला निकाल कर उसका एक जाल बनाया और तालाब से मछली पकड़ने की कोशिश करने लगा। संयोग से उस तालाब काफी सारी मछलियां थीं अतः उसके जाल में कई मछलियां फंस गयी। अब तो वो भिखारी शाम तक मछली पकड़ता रहा।

काफी मछली इकट्ठी हो जाने पर उन्हें बाजार में बेच आया। अब वो भिखारी रोजाना तालाब में जाता और ऊन के जाल से खूब मछलियां पकड़ता। धीरे धीरे उसने मछली पकड़ने को ही अपना धंधा बना लिया। अब वो कई अच्छे किस्म के जाल भी खरीद लाया। ऐसा करते करते एक दिन वो काफी अमीर व्यक्ति बन गया।

kabir das ki photoएक दिन उस भिखारी ने सोचा कि क्यों ना संत कबीर से मिलने जाया जाये और उनका धन्यवाद दिया जाये क्योंकि आज मैं उन्हीं की वजह से अमीर बन पाया हूँ।

जब वो भिखारी कबीर दास जी के पास गया तो अपने साथ सोने, चाँदी और रत्न लेकर आया। सभी सोना, चाँदी और रत्न उसने कबीर जी के चरणों में लाकर रख दिए लेकिन संत कबीर उस भिखारी को पहचान ना पाये। तब उस भिखारी ने सारी पुरानी बात याद दिलाई कि आपके ऊन के गोले की वजह से मैं आज इतना अमीर हो पाया।

उसकी पूरी बात सुनकर संत कबीर बड़े दुःखी हुए और बोले कि तुमने इतनी सारी मछलियों से उनका जीवन छीनकर पाप किया है और क्योंकि ये सब मेरे कारण हुआ है इसलिए तुम्हारे आधे पाप का भागीदार मैं भी बन गया हूँ।

संत कबीर से उस भिखारी द्वारा दिया गया सोना, चांदी और रत्न को वापस लौटा दिया और उस भिखारी को भी पुण्य कर्म करके पश्चाताप करने का उपदेश दिया।

मित्रों हमें असहाय लोगों की मदद करनी चाहिये। दान करना सबसे बड़ा पुण्य है लेकिन ये पुण्य तभी मान्य है जब आपका दान अच्छे कामों में इस्तेमाल हो। बुरे कामों के लिए दिया गया दान भी पाप के समान होता है और दान देने वाला भी उस पाप का भागीदार बनता है।

दान दें लेकिन सोच समझकर ताकि आपके दान का दुरूपयोग ना हो……धन्यवाद!!!

निवेदन :- हम जानते हैं कि हिंदीसोच के पाठकों को नयी नयी कहानी और प्रेरक प्रसंगों का इन्तजार रहता है। आप चाहे तो हमें बता सकते हैं कि आपको क्या पढ़ना पसंद है, आप कमेंट करके हमें कोई भी टॉपिक बता सकते हैं। अगर आपका टॉपिक अच्छा हुआ तो हम उसके बारे में आर्टिकल जरूर लिखेंगे। कहानी पढ़कर कमेंट करना ना भूलें। अगर आप चाहते हैं कि ये ज्ञान की बातें प्रतिदिन आपके ईमेल पर भेज दी जाएँ तो आप हमारा ईमेल सब्क्रिप्शन ले सकते हैं इसके बाद आपको सभी नयी कहानियां ईमेल कर दी जाएँगी- Subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 Comments

  1. Chetan
  2. Santosh kumar
  3. KRISHNA DAS MAHANT
  4. Ranjeet singh
  5. Ranjeet singh